covid19: जापान ने घोषणा की है कि वह सोमवार से कोविड-19 की वजह से सीमा पर लगाई पांबंदियों से पूरी तरह से टीकाकरण करा चुके लोगों को ढील देगा. हालांकि, इनमें पर्यटकों को शामिल नहीं किया गया है. जापान सरकार ने कोविड-19 के मामलों में तेजी से आई गिरावट के बाद कारोबारी समुदाय की मांग पर यह कदम उठाया है.Also Read - Corona in Jharkhand: एक ही दिन में दुमका के स्कूलों के 39 बच्चे, तीन टीचर संक्रमित पाए गए

जापान सरकार की घोषणा के मुताबिक देश में प्रवेश करने से पहले व्यक्ति को जापानी प्राधिकारियों द्वारा मान्यता प्राप्त कोविड-19 टीके से पूर्ण टीकाकरण कराना होगा. तीन महीने से कम अवधि के लिए अर्हता रखने वाले यात्रियों और दीर्घकाल के लिए आने वाले यात्रियों जिनमें विदेशी विद्यार्थी, तकनीकी इंटरनशिप कार्यक्रम के तहत आने वाले कामगार को 14 दिन तक पृथकवास में रहने की जरूरत होगी. Also Read - Makar Sankranti: कोरोना के कारण मां तारिणी मंदिर के कपाट बंद, श्रद्धालु नहीं कर पा रहे दर्शन

घोषणा के मुताबिक ऐसे लोगों को प्रायोजित करने वाले स्कूलों और कंपनियों को दस्तावेज जमा करना होगा जिसमें इनकी गतिविधियों और उनकी निगरानी की प्रक्रिया संबंधी जानकारी देनी होगी. Also Read - Covid19: दिल्ली में कोरोना से मरने वाले 73 फीसद ने नहीं लगवाई थी वैक्सीन, 19 फीसद को लगी सिर्फ एक डोज

इसके साथ ही जापानी नागरिकों और बहु प्रवेश परमिट के साथ आने वाले विदेशी नागरिकों के लिए 10 दिन के पृथकवास को घटाकर तीन दिन करने का प्रस्ताव है. गौरतलब है कि जापान ने देश में कोविड-19 के मामले बढ़ने पर जनवरी से ही विशेष परमिट और मानवीय कार्यों के अलावा विदेशियों के आने पर लगभग रोक लगाई है.

जापान के उप मुख्य कैबिनेट सचिव सियेजी किहारा ने कहा कि जापान सीमा के नियंत्रण और निगरानी की गतिविधियों का अध्ययन करने के बाद इस साल के अंत तक विदेशी पर्यटकों को भी आने की अनुमति देने पर विचार करेगा.

(इनपुट भाषा)