संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने सुरक्षा परिषद से कोविड-19 महामारी से निपटने में एकजुट रहने का आह्वान किया. उन्होंने इसे ”एक पीढ़ी की लड़ाई” करार दिया. उन्‍होंने चेताया कि ऐसे समय में आतंकवादी समूहों को स्‍ट्राइक करने के अवसर की खिड़की दिखाई दे सकती है, जबकि अधिकांश सरकारों का सबसे अधिक ध्यान महामारी की ओर है. Also Read - कोलकाता: कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद बेहोश हुई 35 वर्षीय नर्स, जांच में लगाए गए विशेषज्ञ

यूएन महासचिव ने कहा, COVID19 द्वारा उजागर की गई तैयारियों की कमी से आतंकियों के लिए यह एक मौका हो हो सकता है कि कैसे बायोटेरोरिस्ट हमले प्रकट हो सकते हैं और इसके जोखिमों को बढ़ा सकते हैं. नॉन स्‍टेट ग्रुप्‍स की विषैले strains तक पहुंच पूरे विश्‍वभर के समाजों के लिए तबाही का कारण बन सकते हैं. Also Read - COVID-19 Vaccination in India: इस राज्य में रोका जाएगा कोरोना टीकाकरण, जानिए क्या है वजह?

यूएन के महासचिव ने वीडियोकॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कोरोना वायरस पर पहली बैठक में सुरक्षा परिषद से अपील करते हुए गुरुवार को कहा, इस मुश्किल समय में परिषद का एकजुट होकर इससे निपटने के लिए संकल्प लेना बहुत महत्वपूर्ण है. Also Read - दिल्ली में कल से इन 81 स्थानों पर लगाए जाएंगे कोविड-19 के टीके, वैक्सीनेशन की तैयारियां हुईं पूरी, देखें लिस्ट

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को संबोधित करते हुए कहा, हर देश अब COVID19 Pandemic के विनाशकारी परिणाम भुगतने या उनसे जूझ रहा है. दसियों हजार जिंदगियां खो गई हैं, टूटे हुए परिवार, उत्‍साह में अस्पताल और अहम कर्मचारियों ओवरवर्क कर रहे हैं.

यूएन महासचिव ने कहा, जबकि COVID19 एक पहला और सबसे महत्‍वपूर्ण स्वास्थ्य संकट है, इसके निहितार्थ कहीं अधिक दूरगामी हैं. आतंकवादी समूहों को स्‍ट्राइक करने के अवसर की खिड़की दिखाई दे सकती है, जबकि अधिकांश सरकारों का सबसे अधिक ध्यान महामारी की ओर है.

यूएन महासचिव ने कहा, COVID19 द्वारा उजागर की गई कमजोरियों और तैयारियों की कमी इस बात पर खिड़की प्रदान करती है कि बायोटेरोरिस्ट हमले कैसे प्रकट हो सकते हैं और इसके जोखिमों को बढ़ा सकते हैं. नॉन स्‍टेट ग्रुप्‍स की विषैले strains तक पहुंच पूरे विश्‍वभर के समाजों के लिए तबाही का कारण बन सकते हैं.

सुरक्षा परिषद की कोविड19 की जटिलताएं स‍हभागिता शांति और सुरक्षा की जरूरत को पूरा करने में चुनौतीपूर्ण होंगी. वास्‍तव में वास्तव में, परिषद से एकता और संकल्प का संकेत इस चिंताजनक समय में बहुत कुछ साबित होगा.

डोमिनिकन गणराज्य स्थायी मिशन संयुक्त राष्ट्र के लिए बताया कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने संघर्ष प्रभावित देशों के लिए COVID19 के संभावित प्रभाव के बारे में महासचिव के सभी प्रयासों के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया है और उन सभी प्रभावितों के साथ एकता और एकजुटता की आवश्यकता को दोहराया है. (इनपुट: एएनआई)