नई दिल्ली. अमेरिकी मीडिया और वहां छपने वाले अखबारों को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अक्सर ‘भेदभाव’ का आरोप लगाते रहते हैं. राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने बयानों में अक्सर यह कहा है कि कई न्यूज चैनल और अखबार जान-बूझकर उनके खिलाफ खबरें प्रकाशित करते हैं. राष्ट्रपति और मीडिया के बीच तनाव के कारण अमेरिका से बाहर की मीडिया में ये खबरें भी आई हैं कि अमेरिकी प्रशासन मीडिया को अपने तरीके से प्रभावित करने या उन पर दबाव बनाने की कोशिश करता है. अमेरिका में हुई एक ताजा घटना, प्रेस और प्रशासन के बीच की इसी तनाव को और बढ़ाने की ओर इशारा कर रही है. दरअसल, बीते दिनों अमेरिका में छपने वाले कई अखबारों पर साइबर हमले किए गए. इसके कारण कई अखबारों की प्रिंटिंग यानी छपाई प्रभावित हुई है. सैन डियागो और फ्लोरिडा से छपने वाले लॉस एंजिलिस टाइम्स जैसे कुछ अखबारों के दफ्तरों में साइबर हमला किया गया, जिससे सप्ताहांत (Weekend) के संस्करण छापने में अखबारों को परेशानी हुई. इंडियन एक्सप्रेस में न्यूयॉर्क टाइम्स के हवाले से छपी खबर के मुताबिक, अगर ये हमला राजनीतिक ‘साजिश’ के तहत किया गया है, तो इससे मीडिया और सरकार के बीच टकराव और बढ़ सकता है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, लॉस एंजिलिस टाइम्स ने यह समाचार प्रकाशित किया है कि अखबार की छपाई रोकने के लिए किया गया इस तरह का यह पहला हमला है. इस हमले के कारण न्यूयॉर्क टाइम्स, वॉल स्ट्रीट जर्नल, लॉस एंजिलिस टाइम्स जैसे अखबारों की छपाई प्रभावित हुई. खासकर वीकेंड पर हुए इस हमले से इन अखबारों के वेस्ट-कोस्ट संस्करणों की छपाई पर प्रभाव पड़ा. हालांकि विभिन्न अखबारों पर हुए साइबर हमले एक समान नहीं है, इसलिए यह पता नहीं लगाया जा सका है कि इनके पीछे किस एजेंसी या संगठन का हाथ है. अखबार ने यह भी कहा है कि साइबर हमलों के कारण इन सभी समाचार-पत्रों के ऑनलाइन एडिशन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है. लेकिन वीकेंड पर प्रिंटिंग में बाधा आने से अखबारों के सर्कुलेशन पर जरूर विपरीत प्रभाव पड़ा है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, अखबारों की प्रिंटिंग पर हुए साइबर हमले दरअसल, इनकी छपाई करने वाली कंपनी ट्रिब्यून पब्लिकेशन पर हुए हैं. यह प्रकाशन कंपनी द शिकागो ट्रिब्यून नामक अखबार का प्रकाशन करने के साथ-साथ फ्लोरिडा, हार्टफोर्ड, कनेक्टिकट और मैरिलैंड शहरों में विभिन्न अमेरिकी अखबारों की प्रिंटिंग का जिम्मा भी संभालती है. ट्रिब्यून पब्लिकेशन की प्रवक्ता मारिसा कोलियस (Marisa Kollias) ने लॉस एंजिलिस टाइम्स को बताया कि साइबर हमलों की वजह से पब्लिकेशन हाउस से छपने वाले सभी अखबारों का सर्कुलेशन और बाजार प्रभावित हुए हैं. बहरहाल, छपाई प्रभावित सभी अखबार इन हमलों की वजह तलाश रहे हैं. क्योंकि साइबर हमलों के बाद किसी भी पब्लिकेशन हाउस से कोई फिरौती नहीं मांगी गई है. इसलिए विभिन्न अखबार समूह अपने स्तर से इस बात की जांच कर रहे हैं कि कहीं ये हमला किसी विदेशी एजेंसी की तरफ से तो नहीं किया गया. या फिर इन हमलों के पीछे कोई सुनियोजित साजिश तो नहीं है.