पालू: इंडोनेशिया सरकार ने मंगलवार को कहा कि सुलावेसी द्वीप पर भूकंप और उसके बाद आई सुनामी में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 1,200 से अधिक हो गई है. साथ ही, पुलिस ने अराजकता का लाभ उठा कर लूटपाट कर रहे लोगों पर अंकुश लगाने को ठान ली है. तटीय शहर पालू से मिली रिपोर्टों के अनुसार अधिकारियों ने दूकानों में लूटपाट कर रहे लोगों को भगाने के लिए चेतावनी देने के तौर पर गोलियां चलाई और आंसू गैस के गोले छोड़े.

इंडोनेशिया के पालू में भूकंप ही नहीं और भी वजह थी सुनामी से भारी तबाही की: साइंटिस्ट

इंडोनेशियाई अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि पिछले सप्ताह सुलावेसी द्वीप पर आए 7.5 की तीव्रता वाले भूकंप और उसके साथ आई सुनामी में मरने वालों की संख्या 1,234 पहुंच गई है. तटीय शहर पालू और उसके आसपास से सटे इलाकों को शुक्रवार को आई इन दोनों आपदाओं ने मलबे में बदल दिया है. अधिकारियों का कहना है कि हजारों लोगों को खाने, ईंधन और पानी की बहुत ज्यादा जरूरत है.पालू के उन्दाता अस्पताल के निदेशक कोमांग हादी सुजेंद्र ने कहा कि सुनामी के बाद अकेले एक केंद्र में 200 से ज्यादा शव आए हैं.

24 लाख लोग आपदा से प्रभावित
आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो नुगरोहो ने कहा कि करीब 24 लाख लोग आपदा से प्रभावित हुए हैं. उन्होंने कहा कि 800 लोग बुरी तरह से जख्मी हुए हैं और 61 हजार से ज्यादा लोग विस्थापित हुए हैं.

मलबे में अभी भी सैकड़ों लोग फंसे
बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, इंडोनेशिया की राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी ने कहा कि इमारतों के मलबे में अभी भी सैकड़ों लोग फंसे हो सकते हैं. बचाव दल सभी प्रभावित इलाकों तक अभी भी पहुंच नहीं सके हैं. झटकों से जमीन अभी भी हिल रही है, लोग अपने घरों में जाने से अभी भी डर रहे हैं.

सुम्बा द्वीप में आया भूकंप
इंडोनेशिया के सुम्बा द्वीप को मंगलवार को रिक्टर पैमाने पर 6 की तीव्रता वाले भूकंप ने हिला दिया हालांकि, यहां से किसी प्रकार के नुकसान की खबर नहीं है.

इंडोनेशिया के सुंबा द्वीप में फिर कांपी धरती, रिएक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.9: यूएसजीएस

2 लाख लोगों को मदद की जरूरत
संयुक्त राष्ट्र ने बताया कि करीब दो लाख लोगों को तत्काल मदद की जरूरत है. उनमें हजारों बच्चे शामिल हैं. जीवित बचे लोग भूख-प्यास से जूझ रहे हैं. खाना और साफ पानी की किल्लत हो गई है. स्थानीय अस्पताल घायलों से भरे पड़े हैं.

इंडोनेशिया में भूकंप और सुनामी से करीब 400 लोगों की मौत

दुकानों में लूटपाट-चोरियां
पुलिस ने मंगलवार को बताया कि भूकंप प्रभावित लोग बंद दुकानों से खाना और पानी ले रहे थे और शुरू में उसने इसकी अनदेखी की. लेकिन अब उसने कंप्यूटर और नकदी की चोरी के सिलसिले में 35 लोगों को गिरफ्तार किया है.

इंडोनेशिया: भूकंप और सुनामी से 420 की मौत, बढ़ सकती है संख्या, मदद को भारत ने बढ़ाए हाथ

कोई दुकान नहीं खुली
राष्ट्रीय पुलिस उप प्रमुख आरी दोनो सुकमांतो ने बताया, ”पहले और दूसरे दिन कोई दुकान नहीं खुली. लोग भूखे थे. लोगों को सामान की सख्त जरूरत थी…” उन्होंने बताया, ”दो दिनों के बाद खाना की आपूर्ति शुरू हो गई. इसे सिर्फ वितरित करने की जरूरत है. हम फिर से कानून का शासन लागू कर रहे हैं.”

हवाई मदद की जरूरत
इंडोनेश्यिा सेना के कर्नल मोहम्मद तोहिर ने कहा कि सुनामी से सबसे ज्यादा प्रभावित शहरों में से एक डोंग्गाला जैसे इलाकों में हेलीकॉप्टर के माध्यम से तत्काल मदद भेजे जाने की जरूरत है. इसके साथ-साथ वे जिले जो बचाव दलों की पहुंच से दूर हैं, वहां भी हवाई मदद की जरूरत है.