नई दिल्ली,  अपने पर्यटन स्थलों का जोर शोर से प्रचार कर भारत के पर्यटकों को आकर्षित करने में जुटे डेनमार्क, स्वीडन और नार्वे को भारतीय पर्यटकों से काफी उम्मीद है. इन देशों से संबद्ध स्कैण्डिनेवियन टूरिस्ट बोर्ड (एसटीबी)भारतीय पर्यटकों तक पहुंचने के प्रयास के तहत भारत में प्रचार गतिविधियों में जुटा है ताकि वे डेनमार्क, स्वीडन और नार्वे की यात्रा करें. Also Read - आखिरकार स्वीडन में क्यों भड़के हैं दंगे? 'कुरान जलाने' का वीडियो हुआ था वायरल

Russia, Spain now focus countries for Tourism Ministry | पर्यटन मंत्रालय की नजर रूस और स्पेन के पर्यटकों पर

Russia, Spain now focus countries for Tourism Ministry | पर्यटन मंत्रालय की नजर रूस और स्पेन के पर्यटकों पर

पहले भी बड़ी संख्या में भारतीय इन यूरोपीय देशों की यात्रा कर चुके हैं. स्कैण्डिनेविया की यात्रा करने वाले भारतीयों की संख्या में हाल में हुई वृद्धि के बाद एयर इंडिया ने इस साल अगस्त में स्टॉकहोम और कोपेनहेगन के लिए सीधी उड़ान सेवा शुरू की थी. पहले ओस्लो के साथ साथ इन गंतव्य स्थलों तक दुबई होते हुए जाना होता था. Also Read - 15 देशों के राजनयिक कश्मीर के मौजूदा हालात जानने के लिए श्रीनगर पहुंचे

एसटीबी के मोहित बतरा ने कहा कि भारत दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में एक है, यही कारण है कि ये तीनों स्कैण्डिनेवियाई दश भारतीय पर्यटकों को आकर्षित करने की जी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं. डेनमार्क, स्वीडेन और नार्वे में भारतीय पर्यटकों की संख्या में हाल में हुई वृद्धि की वजह गिनाते हुए बतरा ने कहा, यूरोपीय देशों द्वारा भारतीयों को अधिक प्यार एवं स्वागत किया जाता है. लोग दोनों पक्षों के बीच सांस्कृतिक विनिमय को उम्मीदभरी निगाहों से देखते हैं. Also Read - भारत, स्वीडन ने समग्र संबंधों को विस्तार देने का लिया संकल्प, तीन समझौतों पर किए हस्ताक्षर