वाशिंगटन| एफबीआई के पूर्व निदेशक जेम्स कोमे के बयान के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने आज दावा किया कि उन्हें पूरे तौर पर क्लीनचिट मिल गयी है. कोमे ने अपने बयान में कहा कि पिछले वर्ष हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूसी हस्तक्षेप को लेकर ट्रम्प के खिलाफ कोई व्यक्तिगत जांच नहीं चल रही है.

सीनेट की समिति के सामने बृहस्पतिवार को हुए कोमे के बयान पर ट्रम्प ने आज सुबह ट्वीट के जरिए पहली प्रतिक्रिया दी. कोमे ने बयान में राष्ट्रपति पर झूठ बोलने और उनकी छवि खराब करने का आरोप लगाया था. लेकिन बयान में कोमे ने इसकी पुष्टि की कि ट्रम्प के खिलाफ जांच नहीं चल रही है.

ट्रम्प ने ट्वीट किया कि कई फर्जी बयानों और झूठ के बावजूद, पूर्ण रूप से क्लीनचिट.. और वह, कोमे ने लीक किया था. अपने बयान में एफबीआई निदेशक के पद से बर्खास्त किए गए कोमे ने माना कि उन्होंने अपने एक मित्र को सूचनाएं लीक की हैं.

कोमे ने कहा कि मुझे लगा कि इससे एक विशेष वकील की नियुक्ति का दबाव पड़ेगा. यह तुक्का सही लगा और अब इस पूरे मामले की जांच एक हाई-प्रोफाइल विशेष अभियोजक कर रहे हैं.

ये था मामला

गुरुवार को सीनेट की सतर्कता समिति के सामने गवाही देते हुए कोमे ने कहा था कि राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दखल की जांच करने की वजह से उन्हें पद से हटाया गया गया था. उन्होंने आगे कहा था कि उनकी बर्खास्तगी के बाद ट्रंप प्रशासन ने उन्हें और एफबीआई को बदनाम करने की कोशिश की थी. कोमे ने यह भी आरोप लगाया कि राष्ट्रपति ट्रंप ने उनसे तत्कालीन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन के रूस से कथित संबंधों की जांच को बंद करने के लिए कहा था.
(एजेंसी से इनपुट)