वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कहा है कि कश्‍मीर के मुद्दे पर भारत और पाकिस्‍तान के बीच बढ़े तनाव को कम करने के लिए मदद को तैयार हूं. ट्रंप ने कहा, मेरे दोनों देशों के साथ अच्छे संबंध हैं. मैं उनकी मदद करने को इच्छुक हूं अगर वे चाहें. उन्हें यह पता है. प्रस्ताव अब भी बरकरार है. नई दिल्ली द्वारा बार-बार यह कहने के बावजूद कि कश्मीर मुद्दा द्विपक्षीय है, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर भारत और पाकिस्तान को इस मुद्दे पर तनाव कम करने में सहायता करने का प्रस्ताव दिया है.

ट्रंप का यह बयान पिछले महीने फ्रांस में ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच जी7 सम्मेलन से इतर हुई वार्ता के बाद आया है. बैठक में दोनों नेता इस बात पर सहमत हुए थे कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच का एक द्विपक्षीय मुद्दा है, जिसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है.

सोमवार को व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से ट्रंप ने कहा, “अगर वे (भारत और पाकिस्तान) चाहें तो मैं उनकी सहायता करना चाहता हूं. वे यह जानते हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव पिछले दो सप्ताह की तुलना में कम हुआ है. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर दोनों मुल्क चाहें तो वह दो दक्षिण एशियाई पड़ोसी देशों की मदद करने के लिए तैयार हैं.

ट्रंप ने इससे पहले भी इस मसले पर मध्यस्थता का प्रस्ताव दिया था, जब उन्होंने जुलाई में कहा था कि मोदी ने ओसाका में बैठक के दौरान उन्हें इसके (मध्यस्थता) लिए कहा था. लेकिन भारत ने उनके इस बयान को खारिज कर दिया था कि मोदी ने कभी ऐसी बात कही है और जोर देकर कहा था कि कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा है.

भारत और पाकिस्तान के बीच हालात पर उनकी राय के बारे में पूछे जाने पर ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मीडियाकर्मियों कहा, जैसा कि आप जानते हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर को लेकर तनाव है. लेकिन मुझे लगता है कि पिछले दो सप्ताह की तुलना में अब यह थोड़ा कम हुआ है. उन्‍होंने कहा, मेरे दोनों देशों के साथ अच्छे संबंध हैं. मैं उनकी मदद करने को इच्छुक हूं अगर वे चाहें. उन्हें यह पता है. प्रस्ताव अब भी बरकरार है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान हटाए जाने के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव चल रहा है.