संयुक्त राष्ट्र। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 73वें सत्र में विश्व के नेताओं को संबोधित करते हुए भारत की तारीफ की. ट्रंप ने लाखों लोगों को गरीबी से बाहर निकालने के लिए मंगलवार को भारत की कोशिशों की प्रशंसा की. Also Read - Expenses in US presidential Election: दुनिया के सबसे ताकतवर व्यक्ति के चुनाव में खर्च होते हैं 1035000000000 रुपये ...होश मत खोइएगा!

भारत में मुक्त समाज

संयुक्त राष्ट्र महासभा की मंगलवार को शुरू हुए जनरल डिबेट को दूसरी बार संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि भारत है, जहां का समाज मुक्त है और लाखों लोगों को सफलतापूर्वक गरीबी से ऊपर उठाते हुए मध्यम वर्ग में पहुंचा दिया.

भारत ने डॉनल्ड ट्रंप को भेजा न्यौता, गणतंत्र दिवस पर हो सकते हैं मुख्य अतिथि

करीब 35 मिनट के संबोधन में उन्होंने कहा कि कई सालों से संयुक्त राष्ट्र महासभा के हॉल में इतिहास देखा गया. उन्होंने कहा कि अपने देशों की चुनौतियों, अपने समय के बारे यहां बताने आए लोगों ने अपने भाषणों और प्रस्तावों में विविध सवाल पेश किए. ट्रंप ने कहा कि यह सवाल है कि हम अपने बच्चों के लिए किस तरह की दुनिया छोड़कर जाएंगे और किस तरह का देश उन्हें उत्तराधिकार में मिलेगा.

उन्होंने कहा कि जो सपने यूएनजीए के हॉल में आज दिखा वह उतना ही विविध है जितना इस पोडियम पर खड़े लोग और उतना ही विविध है जितना संयुक्त राष्ट्र में दुनिया के देशों का प्रतिनिधित्व है. उन्होंने कहा कि यह वास्तव में कुछ है. वास्तव में यह काफी महान इतिहास है.

सिर्फ दोस्तों को ही मिलेगी मदद

ट्रंप ने सऊदी अरब के साहसिक नये सुधारों और इस्राइली गणतंत्र की 70वीं जयंती का उदाहरण दिया. ट्रंप ने ये भी कहा कि संयुक्त राष्ट्र केवल उन्हीं देशों को सहायता देगा जिन्हें वह अपना सहयोगी मानता है. उन्होंने कहा कि हम देखेंगे कि कहां काम हो रहा है, कहां काम नहीं हो रहा है और क्या जो देश हमारे डॉलर और हमारी सुरक्षा लेते हैं, वे हमारे हितों का ख्याल रखते हैं या नहीं. आगे बढ़ते हुए हम केवल उन्हीं लोगों को विदेशी सहायता देने जा रहे हैं जो हमारा सम्मान करते हैं और स्पष्ट रूप से हमारे दोस्त हैं.