वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्हें ईरान पर हमला करने की कोई ‘‘जल्दी नहीं’’ है. उन्होंने खुलासा किया कि अमेरिकी बल जवाबी कार्रवाई के लिए तैयार थे लेकिन बड़े पैमाने पर लोगों के हताहत होने की आशंका के मद्देनजर उन्होंने बलों को वापस बुला लिया. ईरान ने बृहस्पतिवार को दावा किया था कि उसने उसके हवाई क्षेत्र का उल्लंघन होने पर अमेरिकी सैन्य निगरानी ड्रोन को गिरा दिया.

ट्रंप ने कई ट्वीट में कहा, ‘‘मैं किसी जल्दबाजी में नहीं हूं.’’ अमेरिकी राष्ट्रपति ने ईरान की इस कार्रवाई का जवाब देने के लिए अमेरिकी बलों को भेजने का फैसला किया था लेकिन बाद में इसे वापस ले लिया था. राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘हमले से 10 मिनट पहले मैंने इसे रोका.’’उन्होंने कहा कि एक जनरल ने उन्हें बताया कि इस कदम से ईरान की तरफ 150 मौतें होने की आशंका है और फिर उन्होंने यह पाया कि यह एक ‘‘संतुलित’’ प्रतिक्रिया नहीं होगी.

ट्रंप ने कहा कि पेंटागन ने बमबारी के लिए ईरान में तीन स्थान चुने थे. तेहरान का कहना है कि ड्रोन उसके हवाई क्षेत्र में था जबकि वाशिंगटन का कहना है कि ड्रोन अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में था. ट्रंप ने बृहस्पतिवार को कहा था कि ईरान ने अमेरिका के ड्रोन को गिराकर ‘एक बड़ी गलती’ की है.