अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन और उनके रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी डोनाल्ड ट्रंप के बीच पहला प्रेजिडेंशियल डिबेट 26 सितंबर को होगा। न्यूयॉर्क में हेम्पस्टीड स्थित होफस्ट्रा यून‍वर्सिटी में होने वाली इस बहस पर अमेरिका ही नहीं, दुनियाभर की नजरें हैं। लगभग डेढ़ घंटे तक चलने वाली इस बहस का लाइव टेलीकास्ट होगा। भारतीय समयानुसार यह बहस मंगलवार को सुबह 6 बजे होगी। Also Read - US Presidential Election: डोनाल्‍ड ट्रंप बोले- जो बाइडेन एक भ्रष्ट राजनीतिज्ञ हैं

Also Read - जो बाइडेन के चुनावी कार्यक्रम में कोरोना ने डाला खलल, कैंपेन के तीन सदस्य वायरस से संक्रमित

सीबीएस न्यूज के अनुसार विशेषज्ञों का मानना है कि 10 करोड़ लोग इस बहस को टीवी पर देखेंगे। यदि ऐसा हुआ तो सालों पुराना रिकॉर्ड टूट जाएगा। इससे पहले जिमी कार्टर और रोनाल्ड रीगन की बहस को 8 करोड़ लोगों ने टीवी पर देखा था। हिलेरी और ट्रंप के बीच होने वाले बहस को देखकर जनता को उनका व्यवहार और विचार जानने को मिलेगा। इससे लोगों को सही राष्ट्रपति चुनने में मदद मिलेगी। यह भी पढ़ें: 6 साल के इस लड़के ने ओबामा को पत्र लिखकर कहा कि वह ओमरान को अपना भाई बनाना चाहता है Also Read - बाइडन की आलोचना वाले लेख को ट्विटर, फेसबुक ने किया बैन, डोनाल्ड ट्रंप को आया गुस्सा

यह बहस भारतीय नजरिए से भी खास है। क्योंकि भारत को दुनिया के सबसे ताकतवर देश के मुखिया के विचार जानने को मिलेंगे। और ये विचार उस समय मिलेंगे जब भारत आतंकवाद से जूझ रहा है। यह जानना भी महत्वपूर्ण होगा कि दोनों उम्‍मीदवार आतंकवाद और पाकिस्‍तान को लेकर क्‍या रुख अपनाते हैं।

इसके अलावा अमेरिका के दो बड़े अखबारों नें अपने अपने संपादकीय में कहा है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिका का अगला राष्ट्रपति नहीं चुना जाना चाहिए क्योंकि वह इस पद के लिए उपयुक्त नहीं हैं। वह देशों और धर्मों के बारे में बेहद सख्त राय रखते हैं। ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ और ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ के संपादकीय बोर्ड ने कहा कि ट्रंप को देश का राष्ट्रपति नहीं चुना जाना चाहिए। ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ ने कहा, ‘इस बात पर बहस की आवश्यकता नहीं है कि डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति बनने के लिए उपयुक्त नहीं हैं।’

न्यूयार्क टाइम्स के संपादकीय बोर्ड ने लिखा है कि ट्रंप के व्यक्तित्व से आकर्षित मतदाताओं को थोड़ी देर रुकना चाहिए और एक दु:साहसी नेता के रूप में उनके विशेष आचरण पर ध्यान देना चाहिए। वह धमकी देते हैं, उन्हें चुनौती देने वालों का घटिया मजाक उड़ाते हैं, महिलाओं के बारे में अपमानजनक टिप्पिणयां करते हैं, क्षूठ बोलते है।