वाशिंगटन: व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव केयलेग मैकएनी ने दान संबंधी ब्यौरा सामने रखते हुए बड़ी भूल कर दी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बैंक खाते की सूचना सार्वजनिक कर दी। ट्रम्प के एक तिमाही का वेतन स्वास्थ्य एवं मानव सेवा विभाग (एचएचएस) को दी गई दान संबंधी एक चेक दिखाने के दौरान उनसे यह गलती हुई. ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने खबर दी की मैकएनी ने संवाददाताओं को दिखाने के लिए शुक्रवार को जब यह चेक हाथ में पकड़ा था तो इसमें न सिर्फ एचएचएस को दी गई एक लाख डॉलर की राशि अंकित थी बल्कि राष्ट्रपति के निजी बैंक की खाता संख्या और रूटिंग नंबर (नौ अंकों का एक क्रम जिसका प्रयोग बैंक अमेरिका के भीतर विशिष्ट वित्तीय संस्थान की पहचान के लिए करते हैं) भी लिखा हुआ था.Also Read - पश्चिम बंगाल में कोरोना प्रतिबंधों में छूट, फिल्मों की शूटिंग, जिम खोलने की अनुमति, ये होंगी शर्तें

यह दान ट्रंप द्वारा चार लाख डॉलर में से तिमाही वेतन न लेने और दान करने की परंपरा के अनुरूप है. एनबीसीन्यूज डॉट कॉम के मुताबिक, एचएचएस को किया गया यह दान कोरोना वायरस को रोकने और उसके इलाज के लिए नयी थेरेपी विकसित करने की खातिर है.
मैकएनी ने चेक दिखाते हुए कहा, “यह रहा चेक” जो कि असल चेक लग रहा था जिस पर कैपिटल वन के अलावा राष्ट्रपति के नाम और हस्ताक्षर के साथ ही उनके बैंक खाते की भी सूचना अंकित थी. Also Read - Burans Phool ke Fayde: बुरांश का फूल Corona रोकने में सक्षम, IIT के शोधकर्ताओं का बड़ा दावा

एनबीसीन्यूज डॉट कॉम की खबर में बताया गया कि चेक पर ट्रंप के मार-आ-लागो रिजॉर्ट का पता और अन्य निजी विवरण जैसे खाता एवं रूटिंग नंबर भी नजर आ रहा था. न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर में प्रशासन के एक अधिकारी के हवाले से बताया गया कि वार्ता में कभी भी नकली चेकों का इस्तेमाल नहीं किया जाता. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जूड डीरी ने कहा कि ट्रंप का वेतन वायरस की नयी थेरेपी को विकसित करने के मकसद से दान दिया गया, “लेकिन मीडिया को तथ्यों को दिखाने से मतलब नहीं है बल्कि उसका ध्यान चेक असली है या नहीं, इस बात पर है.” हालांकि, चिंता राष्ट्रपति के बैंक ब्यौरे के मीडिया में सार्वजनिक होने को लेकर है. Also Read - Delhi Weekend Curfew: नियम तोड़ते हुए पकड़े गए लोग, 1320 के खिलाफ मुकदमा दर्ज