वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने घोषणा कर कहा कि उनका प्रशासन अमेरिका की ओर से विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को मिलने वाली फंडिंग को रोक रहा है. व्हाइट हाउस की डेली ब्रिफिंग में ट्रंप ने कहा, “मैं अपने प्रशासन को फंडिंग (वित्त पोषण को) रोकने का निर्देश दे रहा हूं. कोरोनावायरस के प्रसार से गलत तरीके से निपटने और इस पूरे मामले को कवर (छिपाने) करने को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की भूमिका की समीक्षा की जा रही है.” Also Read - Herd Immunity: हर्ड इम्युनिटी के सहारे नहीं कर सकते कोविड-19 से मुकाबला

बीबीसी ने उनके हवाले से कहा, “डब्ल्यूएचओ अपनी बेसिक ड्यूटी (मूल कर्तव्यों) का ही पालन नहीं कर सका है और इसकी जवाबदेह तय की जानी चाहिए.” राष्ट्रपति ट्रंप ने यह भी आरोप लगाया कि डब्ल्यूएचओ ने जान बचाने से अधिक महत्व पोलिटिकल करेक्टनेस को दिया और ऐसे वक्त में चीने के दावे को माना जब महामारी का प्रकोप सबके सामने सिर उठाए खड़ा था. Also Read - चीन की बढ़ेंगी मुश्किलें! कहां से निकला कोरोना वायरस? जांच के लिए अगले हफ्ते चाइना जाएगी डब्ल्यूएचओ की टीम

उन्होंने हाल के हफ्तों में डब्ल्यूएचओ पर चीन को लेकर पक्षपाती होने का आरोप लगाया है. राष्ट्रपति ट्रंप ने हाल ही में कोरोनावायरस महामारी से निपटने में ‘चीन केंद्रित’ होने के लिए संगठन पर हमला करते हुए कहा कि डब्ल्यूएओ ने चीन को लेकर पक्षपात किया है. Also Read - केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने WHO के कार्यकारी के अध्यक्ष का कार्यभार संभाला