इस्लामाबाद: पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ खुद के और अपने परिवार के खिलाफ दर्ज भ्रष्टाचार के मामलों में सुनवाई के लिए सोमवार को एक जवाबदेही अदालत में पेश हुए. हालांकि, अदालत परिसर के बाहर कथित तौर पर गोली चलने के चलते शोरगुल के बाद कार्यवाही बुधवार तक के लिए स्थगित कर दी गई.

मरियम बोलीं, नवाज शरीफ की बेटी होने के कारण जेल में हूं

शरीफ के 13 जुलाई को जेल जाने के बाद से यह पहली बार है, जब वह अल-अजीजिया स्टील मिल्स और हिल मेटल एस्टैबलिशमेंट मामलों में इस्लामाबाद स्थित अदालत में पेश हुए. जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश अरशद मलिक ने सुनवाई स्थगित कर दी और जांच अधिकारी को 15 अगस्त के लिए तलब किया. शरीफ (68), उनकी 44 वर्षीय बेटी मरियम और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मुहम्मद सफदर रावलपिंडी के अडियाला जेल में क्रमश: 10 साल, सात साल और एक साल कैद की सजा काट रहे हैं. लंदन में चार आलीशन फ्लैटों पर उनके परिवार के स्वामित्व को लेकर एक जवाबदेही अदालत ने छह जुलाई को उन्हें दोषी ठहराया था.

भ्रष्टाचार में फंसे पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ का केस क्यों लड़ना चाहता है ये भारतीय नेता?

दंगा रोधी बल के पुलिसकर्मी ने चलाई थी गोली
शरीफ को आज एक बख्तरबंद वाहन में न्यायाधीश अरशद मलिक की जवाबदेही अदालत में लाया गया और सुनवाई के बाद उन्हें वापस जेल ले जाया गया. अदालत परिसर में सुरक्षा के सख्त इंतजाम किए गए थे और यहां तक कि मीडिया के प्रवेश पर भी पाबंदी थी. शरीफ जब अदालत में पेश हुए तभी बाहर गोलियां चलने की आवाज सुनाई दीं. एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘‘दंगा रोधी बल के एक पुलिसकर्मी ने एक गोली चलाई.’’

पाक में प्रेमी युगल की गले मिलने पर गिरफ्तारी, पुलिस पर धन उगाही का आरोप

15 अगस्त को होगी अगली सुनवाई
उन्होंने बताया, ‘‘हम यह पता लगाने के लिए मामले की जांच कर रहे हैं कि बंदूक भरी हुई क्यों थी. ’’ द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक गोली चलने पर शोरगुल होने के बाद मामलों की सुनवाई 15 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गई. शरीफ और उनके दो बेटों के खिलाफ भ्रष्टाचार के लंबित मामलों को शरीफ की अर्जी पर इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने सात अगस्त को न्यायाधीश मलिक की अध्यक्षता वाली दूसरी जवाबदेही अदालत को स्थानांतरित कर दिया था.

पाकिस्तान की 15वींं संसद का सेशन शुरू, नवनिर्वाचित सदस्यों ने ली शपथ

शरीफ परिवार के खिलाफ औपचारिक मुकदमा 14 सितंबर को शुरू हुआ और छह महीने के भीतर सुनवाई पूरी होनी थी लेकिन अंतिम तारीख तीन बार बढ़ाई गई. शरीफ के अलावा उनके दो बेटे- हसन और हुसैन भी भ्रष्टाचार के सभी तीन मामलों में सह आरोपी हैं. (इनपुट एजेंसी )