संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अपनी अगली अध्यक्ष के तौर पर बुधवार को इक्वाडोर की विदेश मंत्री मारिया फर्नांडा इस्पिनोसा को चुना.  वह 73 वर्षों के इतिहास में 193 सदस्यीय इस विश्व निकाय की अगुवाई करने वाली चौथी महिला हैं. Also Read - Coronavirus Update: कोरोना कहीं बन ना जाए मानवाधिकार संकट, UN को हुई Human Rights की चिंता

इस्पिनोसा अपनी महिला प्रतिद्वंद्वी होंडुरास की दूत मैरी एलिजाबेथ फ्लोर्स फ्लैक को हराकर इस पद निर्वाचित हुईं. फ्लैक को मिले 62 मतों के मुकाबले उन्हें 128 वोट मिले. परिषद के अध्यक्ष स्लोवाकिया के मिरोस्लाव लजकाक ने तालियों की गड़गड़ाहट के बीच नतीजों की घोषणा की. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा, ‘‘हम कर सकते हैं और हमें बेहतर करना चाहिए.’’ Also Read - नौकरी करने वालों के लिए बुरी खबर, संयुक्त राष्ट्र ने कहा- 20 करोड़ लोग हो सकते हैं बेरोजगार

इस मौके पर इस्पिनोसा ने उम्मीद जताई कि लैंगिक समानता की दिशा में सकारात्मक प्रगति होती रहेगी. इसके अलावा उन्होंने अपने निर्वाचन को दुनिया की उन सभी महिलाओं को समर्पित किया जो मौजूदा राजनीति में भाग लेती हैं और जिन्होंने पुरुषवादी तथा भेदभावपूर्ण राजनीतिक तथा मीडिया हमलों का सामना किया है. Also Read - International Women's Day 2020: एक आंदोलन जिसने रच दिया इतिहास, पूरी दुनिया को बताया बराबरी का मतलब

इस्पिनोसा ने अपनी जीत के बाद कहा कि वह इस पद पर निर्वाचित होने वाली लैटिन अमेरिका और कैरिबिया की पहली महिला हैं. उन्होंने बाद में माडिया से कहा कि उनकी प्राथमिकताएं प्रवास पर वैश्विक असर के लिए वार्ता को अंतिम रूप देना, जलवायु परिवर्तन पर कदमों को बढ़ावा देना, संयुक्त राष्ट्र में सुधारों को लागू करना और वित्तीय आर्थिक विकास के नए रास्ते तलाशना होंगी.

-इनपुट एजेंसी