नई दिल्लीः दुनिया का लगभग हर एक देश और हर एक नागरिक महिला उत्पीड़न के खिलाफ अपनी आवाज उठाता है लेकिन इस बीच एक देश ऐसा है जिसके खुद राष्ट्रपति ने महिलाओं पर हो रहे यौन उत्पीड़न को लेकर आश्चर्य चकित करने वाला बयान दिया है. यह बयान एक तरह से महिला विरोधी है. अगर कोई राष्ट्रपति यह कहे कि किसी महिला का रेप का आरोप आरोपी की शक्ल पर निर्भर करता है तो आप भी शायद थोड़ी देर के लिए आश्चर्य में पड़ जाएंगे. Also Read - Kumbh 2021: कुंभ के मुख्य पर्वों पर हरिद्वार आने वाली महिलाओं को मिलेगी निशुल्क यात्रा की सुविधा

जी हां इक्वाडोर(Ecuador) के राष्ट्रपति लेनिन मोरोनो(Lenín Moreno) अपने बयान को लेकर काफी चर्चा में बने हुए हैं, लेनिन अक्सर अपने बयान को लेकर सुर्खियों में रहते हैं और इस बार भी ऐसा ही है लेकिन इस बार उन्होंने एक ऐसे मुद्दे पर बात कही है कि लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं. लेनिन ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि रेप का आरोप उन मर्दों के लिए ज्यादा खतरनाक होता है जो दिखने में अच्छे कम होते हैं. Also Read - International Women's Day: ताजमहल का फ्री में दीदार कर सकेंगी महिलाएं, फोरनर्स को भी नहीं लेना होगा टिकट

उन्होंने कहा कि हमेशा ही ऐसा होता है कि रेप के आरोप अधिक सुंदर लोगों पर कम लगते हैं. एक खबर के अनुसार लेनिन ने अपने बयान में कहा कि पहले से समय बहुत बदल चुका है और महिलाएं अब अपने हक के लिए लड़ना सीख गईं है. उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है कि वे अपने उपर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठा रही हैं, लेकिन कई बार ऐसा होता है कि वह शक्ल देखकर रेप का आरोप लगा देती हैं. Also Read - राष्ट्रीय महिला आयोग को 2020 में मिलीं 23,722 शिकायतें, छह साल में सबसे ज्यादा

राष्ट्रपति ने कहा कि बहुत मौकों पर ऐसा होता है कि जब कोई सुंदर और हैंडसम व्यक्ति किसी महिला के साथ कोई हरकत करता है तो उऩ्हें यह यौन उत्पीड़न नहीं लगता. लेनिन मोरेनो के बयान के बाद लोग तरह तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं. इस बयान ने लेनिन को सोशल मीडिया में ट्रोल करके रखा हुआ है. अपने बयान पर लेनिन ने ट्वीट करके कहा कि इसे गलत तरह से पेश किया जा रहा है.