मेलबर्न: अंडे खाने से उन लोगों में दिल की बीमारी होने का खतरा नहीं बढ़ता, जिनके मधुमेह की चपेट में आने की आशंका है या जिन्हें टाइप टू डायबिटीज है. एक नए अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है. Also Read - Australia vs India: तीसरे वनडे मैच में नजर आ सकते हैं ये भारत-ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी

Also Read - लगातार दूसरा शतक जड़ने वाले स्मिथ ने किया खुलासा- दूसरे वनडे में खेलने पर संशय था

रिसर्च का दावा, आकर्षक पुरुषों को पसंद करने का महिलाओं के हार्मोन से कोई लेना-देना नहीं Also Read - India Vs Australia 2nd ODI (HIGHLIGHTS): दूसरे वनडे में जीत हासिल कर ऑस्ट्रेलिया ने 2-0 से सीरीज पर कब्जा किया

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ता अंडों के सेवन को लेकर दी जाने वाली आहार संबंधी परस्पर विरोधी सलाह को लेकर स्थिति साफ करना चाहते थे. उनके इस अध्ययन में पाया गया कि साल भर तक एक हफ्ते में 12 अंडों तक का सेवन करने से उन लोगों में दिल की बीमारियों से जुड़े जोखिम कारकों में कोई बढ़ोतरी नहीं होती, जिन्हें डायबिटीज होने का खतरा है या फिर जिन्हें टाइप टू डायबिटीज है. अनुसंधानकर्ता निक फुलर ने बताया कि अंडे प्रोटीन और सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक स्रोत हैं जो आंखों व दिल की सेहत, सेहतमंद नसों व सेहतमंद गर्भावस्था, फैट और कार्बोहाइड्रेट के सेवन का नियमन समेत स्वास्थ्य और आहार संबंधी कई कारकों को बढ़ावा देते हैं. यह अध्ययन ‘अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.