मेलबर्न: अंडे खाने से उन लोगों में दिल की बीमारी होने का खतरा नहीं बढ़ता, जिनके मधुमेह की चपेट में आने की आशंका है या जिन्हें टाइप टू डायबिटीज है. एक नए अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है. Also Read - ऑस्ट्रेलिया में शानदार डेब्यू के बाद अब टीम इंडिया के लिए और बड़े कीर्तिमान हासिल करना चाहते हैं नटराजन

Also Read - स्टीव स्मिथ के स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ आउट ना होने के रिकॉर्ड को बदलना चाहता था: अश्विन

रिसर्च का दावा, आकर्षक पुरुषों को पसंद करने का महिलाओं के हार्मोन से कोई लेना-देना नहीं Also Read - ऑलराउंडर की भूमिका में रवींद्र जडेजा का आगे बढ़ना भारत के लिए बहुत बड़ा बोनस: भरत अरुण

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ता अंडों के सेवन को लेकर दी जाने वाली आहार संबंधी परस्पर विरोधी सलाह को लेकर स्थिति साफ करना चाहते थे. उनके इस अध्ययन में पाया गया कि साल भर तक एक हफ्ते में 12 अंडों तक का सेवन करने से उन लोगों में दिल की बीमारियों से जुड़े जोखिम कारकों में कोई बढ़ोतरी नहीं होती, जिन्हें डायबिटीज होने का खतरा है या फिर जिन्हें टाइप टू डायबिटीज है. अनुसंधानकर्ता निक फुलर ने बताया कि अंडे प्रोटीन और सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक स्रोत हैं जो आंखों व दिल की सेहत, सेहतमंद नसों व सेहतमंद गर्भावस्था, फैट और कार्बोहाइड्रेट के सेवन का नियमन समेत स्वास्थ्य और आहार संबंधी कई कारकों को बढ़ावा देते हैं. यह अध्ययन ‘अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.