काहिरा: मिस्र में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान के तीसरे और अंतिम दिन सबकी नजरें मतदाताओं और मतदान प्रतिशत पर टिकी हैं. आम चुनावों के बाद मौजूदा राष्ट्रपति अब्देल फतह अल- सीसी का दूसरे कार्यकाल के लिए चुना जाना लगभग तय है, ऐसे में सिर्फ मतदान प्रतिशत ही एकमात्र देखने लायक बात होगी.

देश के निवार्चन आयोग ने मतदान नहीं करने वालों पर 30 डॉलर का जुर्माना लगाने की घोषणा करने के बाद वोट डालने के लिए समय सीमा को एक घंटे के लिए बढ़ा दिया है. मतदान के दूसरे दिन मतदाताओं की संख्या कुछ कम सी रही. वहीं अधिकारी लोगों को वोट डालने के लिए प्रेरित करते हुए देखे गये. 

उच्चस्तरीय वार्ता करेंगे दोनों कोरियाई देश

उच्चस्तरीय वार्ता करेंगे दोनों कोरियाई देश

सरकारी टीवी पर आयी एक खबर के अनुसार, निर्वाचन आयोग ने लोगों से कहा कि मतदान नहीं करने से ‘उन लोगों को लाभ होता है, जो देश से नफरत करते हैं.’ हालांकि बुधवार को मतदान बंद होने के बाद मतदान प्रतिशत के संबंध में कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं आया था. हालांकि पूर्ण परिणाम दो अप्रैल तक आने की संभावना है, लेकिन आंशिक अनुमान स्थानीय मीडिया में आज शाम से मिलने लगेंगे. अल- सीसी ने अपना पिछला चुनाव 2014 में वामपंथी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 96.9 प्रतिशत वोटों से जीता था. (भाषा-इनपुट)