चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने गुरुवार को चीन और भारत को अपने पूर्वाग्रहों को छोड़कर और अपने मतभेदों को सुलझा लेने चाहिए ताकि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बेहतर किया जा सके. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर राजनीतिक भरोसा हो तो हिमालय भी दोनों देशों की दोस्ती बढ़ने से रोक नहीं सकता. वांग यी ने मौजूदा संसदीय सत्र के दौरान भारत-चीन संबंधों पर ये प्रतिक्रिया दी. ये पूछे जाने पर कि साल 2017 में डोकलाम जैसे मुद्दों की वजह से भारत के साथ चीन अपने संबंधों को किस तरह देखता है, वांग यी ने कहा कि कुछ मुश्किलों और इम्तिहानों के बाद चीन-भारत संबंध लगातार मजबूत हो रहे हैं. Also Read - चीन से तनाव: रक्षामंत्री ने तीनों सेनाओं के प्रमुखों और Chief of Defence Staff की मीटिंग की

Also Read - चीन के विदेश मंत्री वांग यी इस महीने भारत यात्रा पर आएंगे, आरसीईपी, सीमा वार्ता एजेंडे में

डोकलाम में चीन ने बनाईं सैन्य चौकियां और हैलीपैड, सेटेलाइट तस्वीरों में हुआ खुलासा

डोकलाम में चीन ने बनाईं सैन्य चौकियां और हैलीपैड, सेटेलाइट तस्वीरों में हुआ खुलासा

Also Read - जिनपिंग से मिलने के लिए चेन्नई पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

वांग यी ने कहा कि चीन अपने अधिकारों और वैध हितों का ध्यान रखते हुए भारत के साथ संबंधों को बनाए रखने पर जोर दे रहा है. चीनी और भारतीय नेताओं ने हमारे संबंधों के मद्देनजर रणनीतिक विजन तैयार किया है. चीनी ड्रैगन और भारतीय हाथी को एक दूसरे से लड़ना नहीं चाहिए, बल्कि एक दूसरे के साथ डांस करना चाहिए. अगर चीन और भारत एक हो जाएं तो एक और एक मिलकर 11 हो जाएगा न कि दो.

चीनी विदेश मंत्री ने कहा, अंतर्राष्ट्रीय हालात में शताब्दी का सबसे बड़ा बदलाव हो रहा है. ऐसे में चीन और भारत को इसे समझते हुए एक दूसरे का समर्थन करना चाहिए और एक दूसरे को संदेह की नजरों से देखना छोड़ देना चाहिए. चीन-भारत संबंधों में सबसे बहुमूल्य चीज आपकी भरोसा है.

डोकलाम पर फिर तनाव! विवादित इलाके में लगातार फाइटर प्लेन और हेलीकॉप्टर उड़ा रहा चीन

डोकलाम पर फिर तनाव! विवादित इलाके में लगातार फाइटर प्लेन और हेलीकॉप्टर उड़ा रहा चीन

बता दें कि भारत-चीन संबंधों में साल 2017 में बेहद उतार चढ़ाव भरा रहा. इनमें चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा, यूएन में जैश ए मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने की भारत की कोशिशों पर चीन की अड़ंगेबाजी, एनएसजी में भारत की एंट्री पर चीन का विरोध जैसे मुद्दे शामिल रहे. सबसे बड़ा मुद्दा रहा डोकलाम का जहां दोनों देशों की सेनाएं 73 दिनों तक आमने सामने डटी रही थी. 28 अगस्त 2017 को ये विवाद खत्म हुआ था. हालांकि चीन ने अब यहां हैलीपेड और सैनिक चौकियां बना ली हैं.