न्यूयॉर्क: अमेरिकी समाचार नेटवर्क सीएनएन के प्रमुख जेफ जकर ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और व्हाइट हाउस के पास मीडिया पर हो रहे हमलों की गंभीरता की समझ नहीं है. बता दें कि बुधवार को सीएनएन के न्यूयॉर्क स्थित ब्यूरो दफ्तर में उस समय अफरा तफरी मच गई जब वहां किसी के द्वारा विस्फोटक सामग्री भेजने का पता चला था. उसके बाद सघन जांच के लिए ब्यूरो ऑफिस को 5 घंटे के लिए खाली करा लिया गया था.

म्यामां में रोहिंग्या अब भी हो रहे हैं नरसंहार के शिकार: UN रिपोर्ट

संदिग्ध पैकेट से मची सनसनी
सीएनएन ने बुधवार को अपने स्क्रीन पर घोषणा की थी कि उसने एक संदिग्ध पैकेट मिलने के कारण अपना न्यूयॉर्क ब्यूरो खाली कर दिया है. पैकेट ठीक वैसा ही है जैसा कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को भी भेजा गया. लेकिन ऐसा लगता है कि सीएनएन के कार्यालय में विस्फोटक उपकरण गलत पहचान की वजह से भेजा गया था क्योंकि इस पैकेट में सीआईए के पूर्व निदेशक जॉन ब्रेनन को संबोधित किया गया था, जो लगातार ट्रंप की आलोचना करते रहते हैं.

व्हाइट हाउस ने नहीं दी प्रतिक्रिया
सीएनएन नेटवर्क के कर्मियों में निराशा है क्योंकि नेताओं को जो विस्फोटक उपकरण भेजे गए थे, उसी तरह सीएनएन में भी विस्फोट उपकरण भेजा गया लेकिन प्रशासन यह समझने को तैयार नहीं है कि सीएनएन भी निशाना था. ट्रंप के चुनाव अभियान के अध्यक्ष ब्रैड पार्स्कल ने चंदा मांगने वाले एक ई-मेल पर यह कहते हुए माफी मांगी कि यह ई-मेल पूर्व नियोजित था और मेल भेजे जाने से पहले विस्फोटक की खबरों का पता नहीं चला था. पार्स्कल ने कहा कि अभियान सीएनएन या किसी के खिलाफ भी हिंसा के व्यवहार को स्वीकार नहीं करता है.

खशोगी की हत्‍या की घटना पर पर्दा डालने की इतिहास की सबसे बदतर कोशिश: US प्रेसिडेंट ट्रंप

सीएनएन वर्ल्डवाइड के अध्यक्ष जकर ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति और खास तौर पर व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव को यह समझना चाहिए कि उनकी बातें मायने रखती है. अभी तक उन्होंने ऐसी समझ दिखाई नहीं है.’’ व्हाइट हाउस की तरफ से अभी तक इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. (इनपुट भाषा)