यंगून: सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने घृणा फैलने और गलत सूचनाओं का प्रसारण रोकने के उद्देश्य से म्यांमार के सेना प्रमुख सहित 20 लोगों और संगठनों को बैन करने का ऐलान किया है.

बता दें कि म्यांमार में जातीय और धार्मिक संघर्ष को बढ़ावा देने, खास तौर से अल्पसंख्यक रोहिंग्या समुदाय के प्रति घृणा को बढ़ावा देने के लिए फेसबुक का इस्तेमाल किये जाने को लेकर सोशल साइट की कटु आलोचना हो रही है. विभिन्न देशों में गलत सूचनाओं के ऑनलाइन प्रसारण और सूचनाओं के साथ छेड़छाड़ से फेसबुक को जोड़ा जा रहा है, लेकिन म्यांमार ऐसा देश है जहां सोशल साइट पर गलत सूचनाओं के प्रसारण के कारण हिंसा को बहुत बढ़ावा मिला है. म्यांमार में सेना के उग्रवाद विरोधी अभियान के कारण पिछले एक वर्ष में रखाइन प्रांत से करीब 7,00,000 रोहिंग्या मुसलमान देश छोड़कर जाने को मजबूर हुए हैं.

रोहिंग्या पर रिपोर्टिंग मामला: 8 माह से जेल में बंद रॉयटर्स पत्रकारों के खिलाफ सजा सुनाए जाने की तारीख आगे बढ़ी

फेसबुक ने किया बैन
फेसबुक ने कहा कि हम फेसबुक से बर्मा के 20 लोगों और संगठनों को बैन कर रहे हैं, जिसमें सशस्त्र बलों के कमांडर इन चीफ सीनियर जनरल मिन ऑन्ग हलांइंग शामिल हैं. फेसबुक ने अपने बयान में साथ ही कहा कि वह इन्हें जातीय और धार्मिक तनाव को आगे बढ़ाने के लिए उसकी सेवा का इस्तेमाल करने से रोकना चाहता है. सेना प्रमुख के दो ऐक्टिव फेसबुक अकाउंट हैं. एक में इनके 13 लाख फॉलोअर हैं और दूसरे में 28 लाख हैं.    (इनपुट एजेंसी)