नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के फाउंडर और सीईओ मार्क जुकरबर्ग को 13 बाद अपने कॉलेज से डिग्री मिल गई. हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने गुरुवार को मार्क जुकरबर्ग को मानद डिग्री प्रदान की. डिग्री मिलने के बाद जुकरबर्ग ने कहा कि मां, मैं हमेशा आपसे कहता था कि मैं यहां वापस आउंगा और अपनी डिग्री लेकर जाऊंगा. Also Read - World’s Richest List 2021: लगातार चौथी बार जेफ बेजोस दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बने, मुकेश अंबानी भी लिस्ट में

डिग्री मिलने के बाद जुकरबर्ग ने भाषण भी दिया. इस दौरान उन्होंने कहा कि यदि आज यहां यह भाषण मैं पूरा कर लेता हूं तो यह पहली बार होगा, जब मैंने हार्वर्ड में कुछ पूरा किया होगा और वाकई उन्होंने यह भाषण पूरा किया. Also Read - Facebook data breach: फेसबुक के लीक डेटा से हुआ खुलासा, जानिए- किस ऐप का करते हैं इस्तेमाल जुकरबर्ग

Also Read - Amazon के Jeff Bezos फिर बने दुनिया के सबसे रईस शख्स, Tesla के Elon Musk को छोड़ा पीछे

33 वर्ष के अरबपति जुकरबर्ग ने अपने भाषण में कहा कि यह मेरी कहानी भी है. डॉरमेटरी कमरे में रहने वाला एक छात्र, एक समय में एक समुदाय से बात करने वाला और ऐसा तब तक करते रहने वाला, जब तक हम पूरी दुनिया से न जुड़ जाएं. इसी अथक प्रयास के कारण आज फेसबुक हम सबके पास है.

जकरबर्ग ने साल 2004 में अपने डॉरमेटरी के कमरे में फेसबुक की शुरुआत की थी. तब यह हार्वर्ड के छात्रों के लिए एक छोटी सी नेटवर्किंग साइट थी. आज यह सोशल नेटवर्किंग की ग्लोबल साइट है, जिसके लगभग दो अरब सदस्य हैं.

जुकरबर्ग ने हार्वर्ड लौट कर ग्रेजुएट्स से कहा कि आज की दुनिया के लिए एक उद्देश्य तय करना, दूसरों की परवाह करना, असमानता से लड़ना और वैश्विक समुदाय को मजबूत करना उनकी पीढ़ी की जिम्मेदारी है. बता दें कि हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने फेसबुक पर अपना ध्यान केंद्रित करने के लिए 13 साल पहले कॉलेज छोड़ चुके जकरबर्ग को डॉक्टरेट की मानद उपाधि दी.

भाषा से इनपुट के साथ