अबदेरदीन (अमेरिका). अमेरिका के मेरीलैंड में ‘राइट एड’ के एक गोदाम में एक महिला कर्मचारी ने कार्यस्थल पर गोलीबारी कर तीन लोगों की हत्या कर दी और इसके बाद अपनी भी जान ले ली. बीते गुरुवार को किए गए इस हमले में कई अन्य घायल भी हुए हैं. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. हारफोर्ड काउंटी के शेरीफ जेफरी गाहलर ने संवाददाताओं को बताया कि उत्तरपूर्व मेरीलैंड स्थित राइट एड वितरण केंद्र में इस घटना को अंजाम देने वाली संदिग्ध 26 वर्षीय अस्थायी कर्मचारी है. गौरतलब है कि राइट एड अमेरिका में एक ‘ड्रगस्टोर चेन’ है. Also Read - 20 जनवरी से राष्ट्रपति नहीं रहेंगे डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिका में हिंसा की आशंका, वाशिंगटन बुलाए गए हजारों सैनिक

शेरीफ जेफरी गाहलर ने बताया कि ऐसा लगता है कि हमले में सिर्फ एक हथियार, बंदूक का इस्तेमाल किया गया और कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने कोई जवाबी फायरिंग नहीं की. अधिकारियों को महिला के मंसूबे का पता नहीं चल पाया है. घटना के बाद इलाके के अस्पताल में पांच लोगों को पहुंचाए जाने की खबर है. बाल्टीमोर स्थित जॉन हॉपकिंस बायव्यू मेडिकल सेंटर ने बताया कि वह गोलियों के जख्म वाले चार लोगों का इलाज कर रहा है. उनमें से दो की हालत स्थिर है और दो लोग गंभीर रूप से घायल हैं. बता दें कि अमेरिका में कार्यस्थल पर फायरिंग की घटनाएं पहले भी हो चुकी हैं. Also Read - भारतीय नागरिक ने अमेरिका में किया 58 करोड़ का घोटाला, हजारों लोगों के साथ की धोखाधड़ी, दोष सिद्ध

पिछले साल जून में न्यू यॉर्क के एक अस्पताल में एक डॉक्टर ने अचानक फायरिंग शुरू कर दी थी. इस हमले में एक डॉक्टर की मौत हो गई, जबकि अन्य 6 लोग घायल हो गए. 2017 के दिसंबर में कैलिफोर्निया के दक्षिणी इलाके में स्थित एक इमारत में बंदूकधारी ने अंधाधुंध फायरिंग कर दो लोगों की जान ले ली थी. अचानक हुई इस गोलीबारी में भी कई लोग जख्मी हो गए थे. अमेरिका में कार्यस्थल या सार्वजनिक स्थानों पर फायरिंग के पीछे समाज विज्ञानियों का मानना है कि तनावपूर्ण कार्य संस्कृति के कारण ऐसी स्थिति आती है. डॉक्टरों का कहना है कि काम के साथ बढ़ते तनाव के कारण कर्मचारियों में असुरक्षा की भावना आती है. इसके कारण परेशान कर्मचारी अपने ही साथियों या अन्य सार्वजनिक स्थानों पर ऐसा कदम उठाता है. Also Read - डोनाल्ड ट्रंप की बढ़ने वाली हैं मुश्किलें, राष्ट्रपति पद पर रहने के कुछ ही दिन बचे हैं, लेकिन...

(इनपुट – एजेंसी)