वाशिंगटन: पाकिस्तान चीन को अपना कर्ज उतारने के लिए आईएमएफ से मिलने वाली मदद का उपयोग ना कर सके इसके लिए अमेरिका प्रयासरत है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सरकार यह सुनिश्चित करने की हर कोशिश कर रही है कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से मिलने वाली धन राशि का उपयोग चीन का कर्ज उतारने के लिए ना कर सके.

तिब्बत जाने से रोका तो चीन की खैर नहीं, अमेरिका ने पारित किया सख्त कानून

आर्थिक चुनौती से जूझ रहा पाकिस्तान
पाकिस्तान ने अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से आठ अरब डॉलर की वित्तीय राहत मांगी है ताकि वह अपने भुगतान संतुलन के संकट से निपट सके. मौजूदा समय में पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है. हालांकि रिपोर्ट के मुताबिक़ इस संबंध में पाकिस्तान और आईएमएफ के बीच हुई बैठक बे-नतीजा रही थी. वहीं अमेरिका को लगता है कि पाकिस्तान की आर्थिक चुनौती का बड़ा कारण चीन द्वारा दिया गया ऋण है.

धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी रिपोर्ट एकतरफा व पक्षपातपूर्ण, हमें सलाह की जरूरत नहीं: पाकिस्तान

यहां संसद की एक सुनवाई के दौरान अंतरराष्ट्रीय मामलों के कोष के उप मंत्री डेविड मालपास ने सांसदों को बताया, ‘‘हम आईएमएफ के साथ काम कर रहे हैं और हमने उसे स्पष्ट कर दिया है कि यदि वह पाकिस्तान को कोई मदद देता भी है तो यह तय करे कि इसका उपयोग चीन के ऋण के भुगतान के लिए नहीं होगा.’’ उल्लेखनीय है कि अमेरिकी सांसदों को डर है कि कहीं आईएमएफ से मिलने वाली वित्तीय मदद से पाकिस्तान अपने ऊपर बकाया चीन के ऋण का भुगतान ना करने लगे. मालपास ने कहा कि अमेरिका यह भी सुनिश्चित कर रहा है कि पाकिस्तान अपने आर्थिक कार्यक्रम को बदले ताकि वह भविष्य में फिर से बर्बाद ना हो. (इनपुट एजेंसी)

पाकिस्तान अवैध कब्जे वाले सभी इलाकों को फौरन छोड़े, जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग: केंद्र