साल 2017 फिनलैंड में बेरोजगारों के लिए खुशियों से भरा साबित हो रहा है। फिनलैंड यूरोप का पहला ऐसा देश बन गया है जो अपने बेरोजगार नागरिकों को हर महीने 587 डॉलर यानी लगभग 40 हजार रुपये देगा। देश में गरीबी कम करने और रोजगार को बढ़ावा देने के मकसद से सरकार ने यह अनोखा प्रयास किया है।

हालांकि फिलहाल इस योजना को प्रयोग के तौर पर लॉन्च किया गया है। फिनलैंड सरकार की एजेंसी केला(KELA) के ओली कंगस ने बताया, ‘यह ट्रायल दो साल के लिए शुरू किया गया है और इसके लिए 2000 हजार बेरोजगारों को चुना गया है।

आपको बता दें कि जिन लोगों को यह सुविधा प्रदान की जाएगी यह भी बताना जरूरी नहीं है कि वे पैसा कहां खर्च कर रहे हैं। यह एक अनोखा सामाजिक प्रयोग है जिससे उम्मीद की जा रही है कि इससे सरकार की लाल फीताशाही और गरीबी में कमी आएगी और साथ ही रोजगार को भी बढ़ावा मिलेगा।
यह भी पढ़ें: डॉन दाउद को मोदी सरकार ने दिया ऐसा झटका, दाउद ने कभी सोचा भी नहीं होगा

एक ऑफिशियल डाटा के अनुसार फिनलैंड के प्राइवेट सेक्टर में प्रतिमाह औसत आय 3,500 यूरो है। इस योजना का मुख्य लक्ष्य यह है कि बेरोजगार लोग भी बाकी सभी रोजगार लोगों की तरह आराम से अपना जीवन जी सके। बेरोजगार लोगों को नौकरी खोने का दुख ना हो और वह खुद को कमजोर ना समझें।

केला के अनुसार यदि इन 2000 लोगों में से किसी को भी एक अच्छी नौकरी मिलती है तो भी उसे हर माह 590 यूरो मिलते रहेंगे। इस योजना से यह जानने में मदद मिलेगी की प्रति माह फ्री में पैसे पाकर लोग कैसा महसूस करते हैं। इस योजना पर कुछ आलोचकों ने भी अपनी राय रखी है। आलोचकों का यह मानना है कि इस योजना के कारण लोग और भी ज्यादा आलसी और कामचोर हो जाएंगे।