लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ मंगलवार को इलाज के लिए एयर एम्बुलेंस से लंदन रवाना हो गए. 69 साल के शरीफ के साथ उनके छोटे भाई शहबाज शरीफ और उनके डॉक्‍टर अदनान खान भी गए हैं. उनके लिए अत्याधुनिक एयर एम्बुलेंस दोहा से मंगवाई गई थी, उसी में सवार होकर वह कतर से लंदन रवाना हुए.

लाहौर हाईकोर्ट ने कई रोगों से ग्रस्त शरीफ को चार हफ्तों के लिए विदेश जाने की इजाजत दी थी और इमरान खान सरकार की क्षतिपूर्ति बांड पर हस्ताक्षर करवाने की शर्त को खारिज कर दिया था.

स्टीरॉयड और दवाईयों के भारी डोज दिए
पीएमएलएन की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब ने बताया कि शरीफ को इलाज के लिए लंदन के हार्ले स्ट्रीट क्लिनिक ले जाया जाएगा. जरूरत पड़ने पर बोस्टन (अमेरिका) भेजा जाएगा. उन्होंने बताया कि रवाना होने से पहले डॉक्‍टरों ने लाहौर के जटी उमरा स्थित आवास पर शरीफ की जांच की और यात्रा के दौरान उनकी हालत स्थिर बनाए रखने के लिए उन्हें स्टीरॉयड और दवाईयों के भारी डोज दिए.

‘नो फ्लाई सूची’ में नाम होने पर रविवार को नहीं जा पाए थे
एयर एम्बुलेंस में गहन चिकित्सा इकाई और शल्य चिकित्सा कक्ष स्थापित किए गए हैं. इसमें डॉक्‍टर और उनके सहायक भी मौजूद रहेंगे. पहले उन्हें पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के विमान से रविवार को ही लंदन के लिए रवाना होना था, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया, क्योंकि उनका नाम ‘नो फ्लाई सूची’ में था.

इमरान सरकार ने 700 करोड़ का बॉन्‍ड मांगा था
इमरान खान सरकार ने नवाज शरीफ को इलाज कराने के लिए ब्रिटेन जाने के वास्ते 700 करोड़ रुपए की क्षतिपूर्ति बॉन्ड जमा कराने की शर्त रखी थी. शरीफ ने इमरान खान सरकार की मांग मानने से बुधवार को इनकार कर दिया था और कहा था कि यह गैरकानूनी है.

अदालत में बॉन्‍ड को चुनौती दी थी
पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के प्रमुख ने कहा था कि यह प्रधानमंत्री खान द्वारा राजनीतिक लाभ के लिए उन्हें इस्तेमाल करने के लिए फंसाने का एक तरीका है. शरीफ ने सरकार की इस मांग को अदालत में चुनौती दी थी.

लाहौर हाईकोर्ट ने विदेश जाने की अनुमति दी
लाहौर हाईकोर्ट ने इमरान खान सरकार की बांड जमा करने की शर्त को दरकिनार करते हुए शरीफ को इलाज के वास्ते चार सप्ताह के लिए विदेश जाने की अनुमति दी थी. हाईकोर्ट ने यह भी आदेश दिया कि डॉक्‍टरों की सिफारिशों के आधार पर विदेश में रहने की उनकी चार हफ्ते की अवधि बढ़ाई जा सकती है.

स्वास्थ्य की जटिलताओं से जूझ रहे शरीफ
शरीफ प्लेटलेट कम होने समेत स्वास्थ्य संबंधी विभिन्न जटिलताओं से जूझ रहे हैं. उनका इलाज अब तक उनके घर में चल रहा था. अदालत ने इमरान खान सरकार को शरीफ का नाम ‘नो फ्लाई’ सूची से हटाने का भी आदेश दिया था.

आठ सप्ताह की जमानत
बता दें कि अल-अजीजिया मिल्स भ्रष्टाचार मामले में इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने मेडिकल के आधार पर शरीफ को हाल ही में आठ सप्ताह की जमानत दे दी थी. इस मामले में शरीफ को सात साल कैद की सजा सुनाई गई थी. धन शोधन मामले में भी उन्हें जमानत मिल गई थी.