कोलंबो: श्रीलंका में राजनैतिक संकट के बीच महिंदा राजपक्षे ने सोमवार को श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री के तौर पर अपना कार्यभार संभाल लिया. श्रीलंका पिछले हफ्ते राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त कर दिया था. डेली मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, राजपक्षे ने सुबह प्रधानमंत्री कार्यालय जाकर कार्यभार संभाला. नए मंत्रिमंडल के एक समूह को भी आज (सोमवार को) राष्ट्रपति द्वारा शपथ दिलवाई जा सकती है.

श्रीलंका का सियासी संकट: UN महासचिव ने कहा- लोकतांत्रिक मूल्यों का सम्मान करें

बता दें कि सिरिसेना ने शुक्रवार को विक्रमसिंघे को बर्खास्त कर राजपक्षे को प्रधानमंत्री नियुक्त कर दिया था, जिसके बाद देश में राजनीतिक संकट पैदा हो गया.

राष्ट्रपति ने विक्रमसिंघे को लिखे पत्र में कहा था कि सिरिसेना की अगुवाई वाली युनाइटेड पीपुल्स फ्रीडम एलायंस (यूपीएफए) के राष्ट्रीय गठबंधन सरकार से हटने के बाद उन्हें प्रधानमंत्री के पद से हटाया जाता है. विक्रमसिंघे ने अपनी बर्खास्तगी को अवैध बताते हुए कहा कि वह अभी भी प्रधानमंत्री हैं.

श्रीलंका के सियासी संकट से अमेरिका चिंतित, राष्ट्रपति मैत्रीपाला से कहा संसद की बैठक तत्काल बुलाएं

गठबंधन सरकार में विक्रमसिंघे की अगुवाई वाली यूपीएफए और यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) शामिल थीं. सिरिसेना ने 16 नवंबर तक के लिए संसद को निलंबित कर दिया है.

प्रेसिडेंट सिरीसेना ने राष्‍ट्र के नाम संदेश में कहा, उद्दंडता के चलते रानिल विक्रमसिंघे हुए बर्खास्त

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंतानियो गुटेरस ने यहां बढ़ते संकट पर चिंता जताई है और सभी राजनीतिक पार्टियों से संयम बरतने का आग्रह किया है. उन्होंने यह बयान रविवार को एक मंत्री के पूर्व अंगरक्षक द्वारा भीड़ पर गोलीबारी के बाद दिया, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी दो अन्य घायल हो गए थे.