पेरिस: स्कूलों में छात्रों द्वारा मोबाइल फोन के इस्तेमाल से पढ़ाई में खलल पड़ने की परेशानी से जूझ रहे फ्रांस ने इसका हल निकाल लिया है. फ्रांस के सांसद बुधवार को एक विधेयक पर ऐसे समझौते पर पहुंचे जिससे सितंबर की शुरुआत में स्कूलों में मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर रोक लग जाएगी. यह पिछले साल राष्ट्रपति चुनाव के दौरान एमैनुएल मैक्रों के वादों में से एक है.

सैमसंग ने पेश किया भारत में पहला टच स्क्रीन वाला रेफ्रिजरेटर, इस तारीख से शुरू होगी प्री-बुकिंग

सीनेटर और नेशनल असेंबली के सदस्य फ्रांस की तीन स्तरीय शिक्षा प्रणाली (प्राइमरी , मिडल और हाई स्कूल) में शैक्षिक उद्देश्यों के अलावा मोबाइल फोन पर प्रतिबंध के लिए एक समझौते पर सहमत हो गए. फ्रांस में शिक्षक कक्षाओं में ध्यान भटकने की बढ़ती समस्या पर लगाम लगाने के लिए इस प्रतिबंध की मांग करते रहे हैं. फ्रांस में 12 से 17 वर्ष की आयु के दस किशोरों में से नौ स्मार्टफोन ले रहे हैं.

सस्ते स्मार्टफोन बाजार में धमाकाः Intex ने उतारा 5 हजार से कम में 4000 mAH की बैटरी वाला फोन

इस विधेयक का मकसद बच्चों को खतरनाक ऑनलाइन सामग्री जैसे कि हिंसा या पोर्नोग्राफी और साइबर बुलिंग से बचाना भी है. हर स्कूल को यह फैसला करना होगा कि उन्हें किस तरह प्रतिबंध लागू करना है. उदाहरण के लिए वे स्कूल परिसर में घुसते ही छात्रों से मोबाइल फोन जमा करने के लिए कह सकते हैं या उन्हें बैग में स्विच ऑफ करके रखने के लिए कह सकते हैं.

Jio मॉनसून हंगामा: 20 जुलाई से शुरू होगा ऑफर, पुराना फोन देकर 501 में ले जाइए नया जियो फोन

शिक्षा मंत्री ज्यां माइकल ब्लैंकर ने जून में सरकार की इस योजना को ‘21 वीं सदी के लिए कानून ’ और ‘तकनीकी क्रांति ’ बताया था. यह विधेयक अंतिम मतदान के लिए 26 जुलाई को सीनेट में और 30 जुलाई को नेशनल असेंबली में पेश किया जाएगा.