नई दिल्ली: आर्थिक संकट में फंसे भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने कांग्रेस नेताओं सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया को राजस्थान और मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों में जीत पर बधाई दी. ब्रिटेन की एक अदालत ने हाल में माल्या को भारत को सौंपने का आदेश दिया है. माल्या ने गुरुवार को को ट्वीट किया, ”यंग चैंपियंस सचिन पायलट और जेएम सिंधिया को बधाई.” माल्या ने ट्वीट कर दोनों युवा नेताओं को विधानसभा चुनावों में बीजेपी को पराजित करने पर बधाई दी.Also Read - UP News: चुनाव से पहले पीएम मोदी ने यूपी को दी कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सौगात, जानिए क्यों है खास

Also Read - UP: लखीमपुर खीरी जा रहे कांग्रेस नेता सचिन पायलट हिरासत में लिए गए

नोटा का 22 सीटों पर सबसे ज्यादा असर, एमपी में BJP-कांग्रेस का ऐसे बिगाड़ा खेल Also Read - राहुल और प्रियंका गांधी से मिले सचिन पायलट, पंजाब के बाद अब राजस्थान पर टिकीं सबकी निगाहें

माल्या ने हाल में राजनीतिज्ञों पर आरोप लगाया था कि उन्हें बैंक कर्ज नहीं चुकाने के मामले में ‘पोस्टर ब्वॉय’ के रूप में दिखाया जा रहा है.सोमवार को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत ने लंदन में अपने फैसले में कहा था कि तड़क भड़क की जिंदगी जीने वाले अरबपति के पास अपने वित्तीय सौदों में गलत जानकारी देने के भारतीय अदालतों के सवाल का कोई जवाब नहीं है.

PM मोदी ने कांग्रेस को बधाई दी, कहा- BJP विनम्रता से जनादेश स्वीकारती है

माल्या ने बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के इस दावे को लेकर भी सवाल उठाया, जिसमें ईडी ने कहा था कि क्या कोई व्यक्ति 300 बैग के साथ बैठक में भाग लेने जाता है. माल्या ने इस खबर के लिंक को रिट्वीट करते हुए लिखा, ”अगली बार ईडी कहेगा कि मैंने जेट एयरवेज 777 की उड़ान को चार्टर्ड किया था.”

Assembly Elections Results 2018: मध्य प्रदेश में कांग्रेस 114 तो BJP के नाम 109 सीटें, ये बनेंगे किंग मेकर

भारत के साथ ब्रिटेन की प्रत्यर्पण संधि के तहत प्रत्यर्पण आदेश पर ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जाविद हस्ताक्षर करेंगे. उनके पास औपचारिक रूप से प्रत्यर्पण का आदेश देने के लिए दो माह का समय है. माल्या मुख्य मजिस्ट्रेट के आदेश को जाविद द्वारा प्रत्यर्पण आदेश देने के बाद ही ब्रिटेन के हाई कोर्ट में चुनौती दे सकते हैं. उस समय तक वह पूर्व शर्तों के तहत ही जमानत पर रहेंगे.