रियाद: कोरोना वायरस पूरी दुनिया को आर्थिक मंदी के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है. इससे उबरने के लिए जी20 समूह देशों के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर 15 अप्रैल को एक बैठक करेंगे. सउदी प्रेस एजेंसी ने इस बात की जानकारी दी है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने रविवार को अपनी रिपोर्ट में कहा कि वर्तमान समय में कोरोना वायरस द्वारा प्रस्तुत वैश्विक चुनौती से निपटने के लिए बैठक में आवश्यक तत्काल कार्रवाई पर चर्चा को आगे बढ़ाया जाएगा. Also Read - जल्द आने वाला है कोरोना का टीका! केंद्र ने राज्यों से कहा- सुचारु टीकाकरण के लिए समिति गठित करो

परंपरागत रूप से जी20 के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों की अप्रैल की बैठक वाशिंगटन डी.सी में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक समूह स्प्रिंग मीटिंग्स की ओर से आयोजित की जाती है. हालांकि, वर्तमान में परिस्थितियों को देखते हुए जी20 की बैठकें वर्चुअली कई बार आयोजित की जा रही हैं. Also Read - योगी आदित्यनाथ का वादा, 'कोरोना खत्म होने पर हर गांव के व्यक्ति को कराएंगे अयोध्या में कारसेवा'

जी20 के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों की पिछली अंतिम बैठक 31 मार्च को हुई थी, जिसमें सभी ने कोरोना वायरस से निपटने को लेकर उसके जवाब में एक रोडमैप पर अपनी सहमति व्यक्त की थी. बता दें कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण पूरी दुनिया में संक्रमित की संख्या 16 लाख के पार पहुंच चुकी हैं और लाखों लोग इस वायरस से अपनी जांन गवां चुके हैं. इस वायरस से बचने के लिए कई देशों में लॉकडाउन भी लागू कर दिए गए हैं. Also Read - दिल्ली में बहाल होगी इंटरस्टेट बस सेवा, डीटीसी और क्लस्टर बसों में 20 सवारियों की लिमिट खत्म