Also Read - यूरोप के कई देशों में कोरोना वायरस की दूसरी लहर, स्‍पेन की मैड्रिड सिटी में इमरजेंसी लागू

Also Read - पेरिस: शार्ली एब्दो के पूर्व कार्यालय के पास चाकू से हमला, चार लोग घायल

पेरिस, 26 मार्च | फ्रांसीसी जांचकर्ताओं का कहना है कि जर्मनविंग्स की विमान सेवा की दुर्घटनाग्रस्त उड़ान संख्या 4यू9525 के कॉकपिट वॉइस रिकॉर्डर से उपयोगी आंकड़े प्राप्त हुए हैं। स्पेन के बार्सेलोना से जर्मनी के डसेलडॉर्फ जा रहा जर्मनी की किफायती विमान सेवा लुफ्तहांसा का एयरबस ए320 विमान मंगलवार को फ्रेंच आल्प्स (फ्रांसीसी पहाड़ी क्षेत्र) के आल्पस-डे-हौते प्रांत में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। विमान में सवार सभी 150 यात्रियों की दुर्घटना में मौत हो गई थी, जिनमें 144 यात्री और छह विमान कर्मचारी शामिल थे। यह भी पढ़ें–जर्मनविंग्स हादसा : खोज अभियान दोबारा शुरू Also Read - फ्रांस के राष्ट्रपति Emmanuel Macron का नागरिकों से आह्वान, कोविड-19 के साथ रहना सीखें

‘बीबीसी’ की रिपोर्ट के अनुसार, फ्रांसीसी उड्डयन जांच एजेंसी के निदेशक रेमी जौती ने कहा कि विमान के कॉकपिट में ध्वनियां और आवाजें रिकॉर्ड हुई हैं, लेकिन इनसे किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता है। कॉकपिट वॉइस रिकॉर्डर मंगलवार को बरामद कर लिया गया था और विमान के दूसरे ब्लैक बॉक्स की तलाश अभी जारी है। उन्होंने आशा जताई कि जांचकर्ता कुछ दिनों में दुर्घटना के बारे में एक कच्ची जानकारी हासिल कर लेंगे, लेकिन पूरी तरह निष्कर्ष पर पहुंचने में कई सप्ताह या महीनों का समय भी लग सकता है।

जांचकर्ताओं का कहना है कि विमान फ्रेंच आल्प्स की सतह से बड़ी तेजी से टकराया था, लेकिन इससे विस्फोट नहीं हुआ। जौती ने बताया कि नियंत्रण कक्ष को विमान के अनियंत्रित होकर गिरने का पता चला था और उन्होंने चालकों से संपर्क साधने की कोशिश की थी, जो असफल रही। ‘न्यूयार्क टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, एक जांचकर्ता ने बताया कि कॉकपिट रिकॉर्डर से प्राप्त जानकारियों से ऐसा लगता है कि एक चालक कुछ देर के लिए कॉकपिट से हटा था और बाद में कॉकपिट में जाने में नाकाम रहा।

जर्मनविंग्स के प्रमुख थॉमस विंकलमैन ने कहा कि 144 में से 72 यात्री जर्मन नागरिक थे। स्पेन सरकार ने कहा क विमान में 51 स्पेनिश नागरिक थे। ब्रिटेन के विदेश सचिव फिलिप हैमंड ने विमान में तीन ब्रिटिश नागरिकों के होने की पुष्टि की। इसके अलावा विमान में ऑस्ट्रेलिया, अर्जेटीना, ईरान, वेनेजुएला, अमेरिका, नीदरलैंड्स, कोलंबिया, मेक्सिको, जापान, डेनमार्क और इजरायल के नागरिक भी थे।