Coronavirus in India: जर्मनी कोविड-19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर भारत को इस स्थिति से निपटने में मदद के लिए आपातकालीन सहायता भेजने पर विचार कर रहा है. जर्मनी के रक्षा मंत्रालय ने रविवार को कहा कि वह भारत को एक सचल ऑक्सीजन जनरेटर और अन्य सहायता प्रदान करने की संभावना का पता लगा रहा है.Also Read - अब सऊदी अरब नहीं जा पाएंगे इन 15 देशों के टूरिस्ट, जानिए वजह

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने इससे पहले भारत के लोगों के प्रति अपनी सहानुभूति व्यक्त की थी और कहा था कि जर्मनी ‘‘तात्कालिक रूप से एक सहायता अभियान तैयार कर रहा है.’’ जर्मनी की सेना ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान अन्य देशों या अंतरराष्ट्रीय संगठनों के लिए अब तक 38 सहायता अभियान संचालित किये हैं. Also Read - Quad Summit 2022: 40 घंटे में 23 मीटिंगों का हिस्सा बनेंगे पीएम मोदी, दौरे में इन सब मुद्दों पर होगी बैठकें

मदद के लिए भारत के अनुरोध पर तेजी से काम किया जा रहा है : यूरोपीय संघ Also Read - रेहड़ी लगाकर Umran Malik को बनाया क्रिकेटर, टीम इंडिया में चुने जाने पर इमोशनल हुए पिता

यूरोपीय संघ (ईयू) ने रविवार को कहा कि वह कोविड-19 से लड़ने में भारत की तेजी से मदद के लिए संसाधन जुटा रहा है. इस 27 देशों के शक्तिशाली समूह के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ईयू ने पहले ही अपनी नागरिक रक्षा प्रणाली को सक्रिय कर दिया है ताकि भारत को तत्काल ऑक्सीजन और दवा आपूर्ति सहित अन्य मदद की जा सके.

इस प्रणाली के तहत ईयू समूह यूरोप और इससे परे आपात स्थिति से निपटने के लिए जरूरी समन्वय में केंद्रीय भूमिका निभाता है. यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वोन डेर लेयेन ने कहा कि ईयू भारत के लोगों के साथ ‘पूरी एकजुटता’ के साथ खड़ा है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ भारत में महामारी की चिंताजनक स्थिति में हम समर्थन के लिए तैयार हैं. ईयू भारत के अनुरोध पर त्वरित मदद पहुंचाने के लिए ईयू नागरिक रक्षा प्रणाली के जरिये संसाधन जुटा रहा है.’’

(इनपुट भाषा)