भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक बयान पर ही सवाल खड़ा हो गया है. बीती रात अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत-चीन के बीच मध्यस्थता करने की अपनी इच्छा को दोहराते हुए कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की जो दोनों देशों के बीच ‘बड़े टकराव’ को लेकर ‘अच्छे मूड’ में नहीं है. लेकिन इसके कुछ ही समय भारत सरकार ने ट्रंप और पीएम मोदी के बीच किसी भी बातचीत से इनकार कर दिया.Also Read - Assembly Elections 2022: भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की आज अहम बैठक, उम्मीदवारों के नाम पर लगेगी मुहर

पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बीच हाल में कोई बातचीत नहीं हुई है. यह स्पष्टीकरण तब आया है जब ट्रम्प ने वाशिंगटन में कहा कि उन्होंने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ चल रहे भारत के सीमा विवाद को लेकर मोदी से बात की है. Also Read - Assembly Elections 2022: चुनाव के ऐलान के बाद UP में भाजपा के कार्यकर्ताओं से आज पहली बार बात करेंगे PM मोदी

ट्रम्प ने मंगलवार को भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को हल करने के लिए मध्यस्थता की पेशकश की थी. एक सूत्र ने कहा, ‘‘मोदी और ट्रम्प के बीच आखिरी बातचीत चार अप्रैल को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के विषय पर हुई थी.’’ Also Read - PM मोदी आज WEF के दावोस एजेंडा में 'स्टेट ऑफ द वर्ल्ड' को करेंगे संबोधित

विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को स्पष्ट कर दिया था कि भारत इस विवाद को हल करने के लिए स्थापित तंत्र और राजनयिक संपर्कों के माध्यम से सीधे तौर पर चीन से बातचीत कर रहा है.

उधर, व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में बृहस्पतिवार को पत्रकारों से बातचीत में ट्रम्प ने कहा कि भारत और चीन के बीच एक ‘‘बड़ा टकराव’’ चल रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘भारत में मुझे पसंद किया जाता है. मुझे लगता है कि इस देश में मीडिया मुझे जितना पसंद करता है उससे कहीं अधिक पसंद मुझे भारत में किया जाता है और मैं मोदी को पसंद करता हूं. मैं आपके प्रधानमंत्री को बहुत पसंद करता हूं. वह बहुत ही सज्जन व्यक्ति हैं.’’

यह पूछे जाने पर कि क्या वह भारत और चीन के बीच सीमा पर बने हालात से चिंतित हैं, इस पर राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘भारत और चीन के बीच बड़ा टकराव है. दो देश और प्रत्येक की आबादी 1.4 अरब. दो देश जिनके पास बहुत शक्तिशाली सेनाएं हैं. भारत खुश नहीं है और संभवत: चीन भी खुश नहीं है.’’

ट्रम्प ने कहा, ‘‘मैंने प्रधानमंत्री मोदी से बात की. चीन के साथ जो भी चल रहा है वह उससे खुश नहीं हैं.’’ इससे एक दिन पहले उन्होंने भारत और चीन के बीच मध्यस्थता की पेशकश की थी.

(इनपुट-भाषा)