क्वेटा: पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में सरकार ने 200 साल पुराने एक गुरुद्वारे को 73 साल बाद सिख समुदाय को सौंप दिया है. एक मीडिया रिपोर्ट में गुरुवार को यह जानकारी दी गई. डॉन न्यूज के मुताबिक, शहर के मध्य में मस्जिद रोड पर स्थित सिरी गुरु सिंह गुरुद्वारा को 1947 से एपीडब्ल्यूए गवर्नमेंट गर्ल्स हाई स्कूल के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है. Also Read - मैनचेस्टर टेस्ट: बटलर-वोक्स की जोड़ी ने कैसे पाकिस्तान के मुंह से छीनी जीत

प्रांतीय संसदीय सचिव और मुख्यमंत्री के अल्पसंख्यक मामलों के सलाहकार, दिनेश कुमार ने बुधवार को कहा, “सिख समुदाय के लिए गुरुद्वारे को धार्मिक क्रियाकलापों के लिए बहाल करना बलूचिस्तान सरकार का ऐतिहासिक फैसला है.” एबीडब्ल्यूए गवर्नमेंट गर्ल्स हाई स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं को आसपास के स्कूलों में दाखिला लेने के लिए कहा गया है. Also Read - इंडियन आर्मी ने पीओके की लीपा वैली में आतंकी लॉन्‍चपैड तबाह किया? वीडियो-फोटो हुए वायरल

बलूचिस्तान में सिख समुदाय समिति के अध्यक्ष सरदार जसबीर सिंह ने इस कदम का स्वागत किया और इसे “प्रांत में रहने वाले सिख समुदाय को बलूचिस्तान सरकार की ओर से उपहार बताया.” डॉन न्यूज ने सिंह के हवाले से कहा, “प्रांत का सिख समुदाय इस बात से बहुत खुश है कि हमारे प्राचीन गुरुद्वारे को पाकिस्तान की सरकार और बलूचिस्तान हाई कोर्ट ने 73 साल बाद हमें सौंप दिया है और अब हम वहां अपना धार्मिक क्रिया कलाप जारी रख सकते हैं.” Also Read - भारत से आयात बंद होने का असर, पाकिस्तान में सांप का जहर बेअसर करने वाले एंटी-डॉट की किल्लत