इस्लामाबाद। भ्रष्टाचार के मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिवार को बड़ी राहत मिली है. इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने नवाज शरीफ और उनकी बेटी और दामाद की सजा पर रोक लगा दी है. अदालत ने उपरी अदालत में अपील पेंडिंग रहने तक सजा पर रोक लगाने का फैसला सुनाया है. तीनों फिलहाल जेल में बंद हैं. इस्लामाबाद हाई कोर्ट में दो न्यायाधीशों की एक पीठ ने शरीफ, उनकी पुत्री मरियम और दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मुहम्मद सफदर की याचिकाओं की सुनवाई की. इन याचिकाओं में उन्होंने अपनी सजा को चुनौती दी है. यह मामला लंदन में महंगे फ्लैटों की खरीद से संबंधित है. न्यायमूर्ति अतहर मिनल्ला ने फैसला पढ़ा और उन्हें छह जुलाई को जवाबदेही अदालत द्वारा सुनायी गयी सजा निलंबित कर दी। शरीफ, मरियम और सफदर को क्रमश: 11 साल, आठ साल और एक साल की सजा सुनायी गई है. पीठ ने तीनों को रिहा करने का आदेश दिया. अदालत ने शरीफ, मरियम और सफदर को पांच-पांच लाख रूपए का जमानत बांड जमा कराने का निर्देश दिया है.

भ्रष्टाचार का मामला

आय से अधिक संपत्ति के मामले में नवाज शरीफ को 10 साल, उनकी बेटी मरयम शरीफ और दामाद सफदर शरीफ को जवाबदेही अदालत ने 7 साल जेल की सजा सुनाई थी. लंदन में चार बंगले के मामले में इन्हें सजा सुनाई गई थी जिसके बाद से ये तीनों जेल में बंद हैं. इनकी सजा पर रोक के बाद हाई कोर्ट ने रिहाई के आदेश जारी किए हैं.

पाकिस्तान लौटे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और मरियम, लाहौर एयरपोर्ट पर गिरफ्तार

पनामा पेपर्स में नाम आने के बाद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को जुलाई में गिरफ्तार किया गया था. शरीफ को उनके खिलाफ पनामा पेपर घोटाले में भ्रष्टाचार के तीन मामलों में से एक में 10 साल की सजा सुनायी गई थी.

पनामा पेपर्स में आया नाम

4 अप्रैल, 2016 को इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिज्म ने पनामा पेपर प्रकाशित किया जिसमें विश्व की प्रमुख हस्तियों द्वारा विदेशों में खातों और मुखौटा कंपनियों के जरिये कर चोरी का खुलासा किया गया. इन दस्तावेजों में शरीफ परिवार का भी नाम था.

राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने नवाज और मरयम के लाहौर पहुंचते ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया था. इस्लामाबाद स्थित जवाबदेही अदालत ने एवेनफिल्ड संपत्ति भ्रष्टाचार मामले में शरीफ 10 साल और मरयम को सात साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई थी.

ये है मामला

पाकिस्तान की अकाउंटेबिलिटी कोर्ट ने 6 जुलाई को लंदन के महंगे एवेनफील्ड हाउस में चार फ्लैटों के स्वामित्व से जुड़े भ्रष्टाचार के मामले में नवाज शरीफ को 10 साल की सजा सुनाई थी. उनकी बेटी मरियम को 7 साल की सजा सुनाई गई थी. इससे पहले पनामा मामले में फंसने के बाद नवाज शरीफ को अयोग्य ठहराकर प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त कर दिया गया था.