वाशिंगटन, 15 नवंबर। अमेरिकी राष्ट्रपति पद की पूर्व डेमोकेट्रिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि उनकी पार्टी के सदस्यों को ‘विभाजित’ या ‘निराश’ नहीं होना चाहिए। हिलेरी ने साथ ही आठ नवंबर के चुनाव में हुई हार के कारणों का विश्लेषण करने की जरूरत पर भी जोर दिया।

हिलेरी ने डेमोक्रेटिक विधायकों के साथ सोमवार को फोन पर बातचीत कर उन्हें अपने चुनाव अभियान में समर्थन और सहयोग देने के लिए धन्यवाद दिया और उनसे चुनाव की हताशा से जल्द से जल्द उबरने का आग्रह किया।

हिलेरी ने कहा कि हालांकि उन्हें नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुकाबले लोगों के ज्यादा वोट मिले, लेकिन चुनाव में जीत उनके रिपब्लिकन प्रतिद्वंदी को हासिल हुई।

अंत में उन्होंने कहा कि देश के लिए डेमोक्रेटिक दृष्टिकोण ने सबसे ज्यादा वोट दिलाए और वह उसके लिए आभारी हैं। हिलेरी ने कहा कि चुनाव के नतीजों से, उनसे ज्यादा कोई दुखी नहीं है और मानती हैं कि इस दुख से रातोंरात नहीं उबरा जा सकता।

हालांकि उन्होंने अपने डेमोक्रेटिक साथियों से आग्रह किया कि उन्हें दो चीजों ‘निराशा’ और ‘मतभेद’ से बचना होगा। हिलेरी ने अपने चुनाव अभियान के नारे को दोहराते हुए कहा, “हम एकसाथ होकर मजबूत हैं।” व्हाइट हाउस में मिली हार के बाद डेमोक्रेट्स कठिन दौर से गुजर रहे हैं और इस दौरान उन्हें गुरुवार को डेमोकेट्रिक नेशनल कमिटी के नए प्रमुख के चुनाव के साथ अपनी भविष्य की रणनीति के बारे में सोचना होगा।