हांगकांग: हांगकांग में पुलिस ने रविवार को पहली बार प्रदर्शनकारियों पर पानी की बौछार का इस्तेमाल किया. प्रदर्शनकारी पिछले तीन महीनों से सरकार के खिलाफ सड़कों पर हैं और इस दौरान कई बार उनके प्रदर्शन ने हिंसक रुख भी अख्तियार किया. सुएन वान जिले में एक निकटवर्ती खेल स्टेडियम में रैली के बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हुई जिस दौरान अधिकारी हथियारों का इस्तेमाल भी करते दिखे.

 

प्रस्तावित प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ व्यापक विरोध प्रदर्शनों का दौर आर्थिक केंद्र को अपनी जद में लिये हुए था हालांकि बाद में इस प्रदर्शन का दायरा तब और व्यापक हो गया जब लोकतंत्र समर्थक आंदोलन के जरिये बीजिंग समर्थक सरकार को इसमें निशाना बनाया जाने लगा. सुएन वान में बारिश के बीच हजारों लोगों ने मार्च में हिस्सा लिया और कट्टरपंथी प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने सड़क पर अस्थायी अवरोधक खड़े किये और फुटपाथ से ईंटे निकाल दीं.


भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल
चेतावनी के संकेत दिखाने के बाद पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिये आंसू गैस का इस्तेमाल किया और सड़कों पर पानी की बौछार करने वाले वाहन दौड़ाए. इस दौरान संकेतों के जरिये प्रदर्शनकारियों को यह चेतावनी दी गई कि अगर वे नहीं हटेंगे तो जेट विमानों की तैनाती की जाएगी. इसके जवाब में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया और पुलिस के साथ उनकी हिंसक झड़प हुई. इसमें तत्काल किसी के घायल होने की खबर नहीं है.

हांगकांग की मेट्रो सेवा-एमटीआर कुछ जगहों पर बंद
इससे पहले पुलिस ने कहा था कि बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की स्थिति में सिर्फ निगरानी कैमरों और कई नोजलों से युक्त वाहनों का इस्तेमाल किया गया. प्रदर्शन के दौरान बीजिंग ने भय, प्रचार और आर्थिक शक्ति का इस्तेमाल इन प्रदर्शनों के खिलाफ किया. प्रदर्शनकारियों द्वारा खास तौर पर इस्तेमाल किये जाने की वजह से हांगकांग की मेट्रो सेवा-एमटीआर- को कुछ जगहों पर बंद कर दिया गया. (इनपुट एजेंसी)