वाशिंगटन: अमेरिका के प्रसिद्ध नागरिक अधिकार नेता सांसद जॉन लुईस ने महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग जूनियर के विचारों का प्रचार करने के लिए अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में एक विधेयक पेश कर अगले पांच वर्ष के लिए 15 करोड़ डॉलर की मांग की है. गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में पेश किया गया, ‘हाउस बिल’ (एचआर 5517) दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्रों के बीच मित्रता और गांधी एवं लूथर किंग जूनियर के विचारों एवं योगदान को दर्शाता है.

विधेयक के अन्य प्रस्तावों में ‘गांधी-किंग डेवलपमेंट फाउंडेशन’ की स्थापना करना भी शामिल है, जिसे भारतीय कानूनों के तहत ‘यूनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट’ (यूएसएआईडी) द्वारा गठित किया जाएगा. विधेयक में इस फाउंडेशन के लिए यूएसएआईडी को अगले पांच वर्ष तक हर वर्ष तीन करोड़ रुपए देने की मांग की गई है. विधेयक में कहा गया है कि यह फाउंडेशन अमेरिका और भारत की सरकारों द्वारा गठित एक परिषद होगी जो स्वास्थ्य, प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन, शिक्षा, महिला सशक्तीकरण के क्षेत्रों में गैर-सरकारी संगठनों को अनुदान मुहैया कराएगी.

इस विधेयक को भारतीय मूल के अमेरिकी सांसद डॉ. एमी बेरा, रो खन्ना, और प्रमीला जयपाल के अलावा ब्रेंडा लॉरेंस, ब्रांड शेरमैन और जेम्स मैकगवर्न का समर्थन हासिल है. अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने विधेयक का स्वागत करते हुए कहा, यह भारत और अमेरिका के बीच ‘‘घनिष्ठ सांस्कृतिक और वैचारिक संबंधों’’ को मजबूत करता है.