वॉशिंगटन: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने बताया कि साल 1990 से कक्षा में मौजूद हब्बल अंतरिक्ष टेलिस्कोप ने एक गाइरोस्कोप के काम बंद कर देने के कारण अपना संचालन अस्थायी रूप से बंद कर दिया है. नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (नासा) ने कहा कि हब्बल शुक्रवार को सुरक्षित मोड में चला गया था.Also Read - Oxygen on Moon: 8 अरब लोगों को एक लाख साल तक जिंदा रख सकती है चंद्रमा पर मौजूद ऑक्सीजन

Also Read - अंतरिक्ष में 200 दिन बिताने के बाद SpaceX कैप्सूल से पृथ्वी पर लौटे चार Astronaut, देखें वीडियो

सूरज को छूने चला नासा का पार्कर-सोलर प्रोब, 1400 डिग्री तापमान में रहकर लेगा तस्वीरें Also Read - लुप्त हो रहा है कभी 9 ग्रहों में रहे प्लूटो का वातावरण, जानें वैज्ञानिक इस बारे में क्या कहते हैं

हब्बल में छह गाइरोस्कोप हैं जो टेलिस्कोप को आधार देते हैं. वर्तमान में हब्बल में दो गाइरोस्कोप काम कर रहे हैं और उसे सर्वोत्कृष्ट काम के लिए कम से कम तीन की जरूरत है.

नासा ने चंद्रयान-1 से मिले आंकड़ों से चंद्रमा पर बर्फ की मौजूदगी की पुष्टि

नासा ने सोमवार को एक बयान में कहा, ”टेलिस्कोप को स्थिर करने और लक्ष्य को इंगित करने वाले तीन में से एक गाइरोस्कोप के काम न करने की वजह से हब्बल सुरक्षित मोड में प्रवेश कर गया.”

नासा के परमाणु रिएक्टर से मंगल के मानव मिशन को मिलेगी ऊर्जा

बयान में कहा गया, ” सुरक्षित मोड टेलिस्कोप को एक स्थिर स्थिति में तब तक रखता है, जब तक कि ग्राउंड कंट्रोल (निगरानी करने वाला उपकरण या कर्मी) इस समस्या को सुधार नहीं लेता और मिशन फिर सामान्य रूप से काम नहीं करने लगता.”

नासा ने कहा, ”हब्बल के उपकरण पूरी तरह से काम कर रहे हैं और आने वाले सालों में विज्ञान के क्षेत्र में इनसे बेहतरीन नतीजे

मिलने की उम्मीद है.”