इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत पर शांति प्रस्तावों का जवाब नहीं देने का आरोप लगाया और कहा कि दो परमाणु सम्पन्न देशों के बीच किसी भी तरह की लड़ाई उनके लिए आत्मघाती साबित होगी. तुर्की की समाचार एजेंसी टीआरटी वर्ल्ड को दिए एक साक्षात्कार में खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के मुताबिक, प्रधानमंत्री ने भारत के साथ वार्ता की फिर से इच्छा जताई है. वहीं,  खान ने यह भी कहा कि भारत कश्मीरी लोगों के अधिकारों को कभी नहीं कुचल पाएगा.

मानव तस्करी अब ले चुका है भयावह रूप, हर तीसरा पीड़ित बच्चा: यूएन की रिपोर्ट

इमरान ने कहा कि यहां तक कि शीत युद्ध भी दोनों देशों के हित में नहीं है. पार्टी ने उनके हवाले से कहा, दो परमाणु संपन्न देशों को युद्ध के बारे में सोचना तक नहीं चाहिए. यहां तक कि शीत युद्ध के बारे में भी नहीं, क्योंकि स्थिति किसी भी समय खराब हो सकती है. दो परमाणु सशस्त्र देशों का युद्ध में शामिल होना आत्महत्या की तरह है. उन्होंने कहा कि भारत ने उनके शांति प्रस्तावों पर जवाब नहीं दिया.

क्या कांग्रेस सरकार विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव कराने से डरी, बीजेपी बोली- ये लोकतंत्र की हत्या 

भारत का कहना है कि आतंकवाद और संवाद साथ-साथ नहीं हो सकता. खान ने कहा, भारत को एक कदम आगे बढ़ाने की पेशकश दी गई थी और हम दो कदम उठाते. लेकिन भारत ने वार्ता की पाकिस्तान की पेशकश कई बार ठुकरा दी. खान ने यह भी कहा कि भारत कश्मीरी लोगों के अधिकारों को कभी नहीं कुचल पाएगा.

जेटली ने सरकार का रखा पक्ष, सीवीसी की सिफारिश पर छुट्टी पर भेजे गए थे सीबीआई के अफसर 

बता दें कि 2016 में पाकिस्तानी आतंकवादियों के हमलों और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारत के सर्जिकल हमले के बाद से भारत-पाक के रिश्ते तनावपूर्ण हैं.

यूपी सरकार ने कुंभ के मद्देनजर गंगा को साफ रखने 91 टेनरियों को बंद करने का दिया आदेश