नई दिल्ली: पाकिस्तान के सबसे सफल कप्तानों में गिने जाने वाले इमरान खान अब पीएम बनने वाले हैं. उनका क्रिकेट करियर शानदार रहा है. उनकी ही कप्तानी में पाकिस्तान ने क्रिकेट विश्वकप जीता. वह एक शानदार आलराउंडर रहे. मात्र 16 साल की उम्र में उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था. 19 साल की उम्र में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना शुरू किया. उन्होंने 3 जून 1971 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट करियर की शुरुआत की थी. वहीं 31 अगस्त 1974 में वनडे करियर की शुरुआत की.

इमरान खान ने भारत से की बातचीत की पहल, कहा- फौज नहीं सुलझा सकती कश्मीर मसला

इमरान खान की बॉलिंग करियर की बात करें तो उन्होंने 88 टेस्ट मैच खेले और 362 विकेट लिए, वहीं 175 वनडे की 153 पारियों में 182 विकेट चटके. इमरान खान ने अपने करियर में एक भी नॉ बॉल नहीं फेंकी. वहीं बैटिंग की बात करें तो इमरान खान ने 88 टेस्ट मैच की 126 पारियों में 3807 रन बनाए. उनका सर्वाधिक स्कोर 136 रहा. उन्होंने टेस्ट मैचों में 6 शतक और 18 अर्धशतक बनाए. वहीं 175 वनडे मैचों की 151 पारियों में 3709 रन बनाए. वनडे में इमरान खान ने एक शतक और 19 अर्धशतक लगाए.

इमरान खान के ‘रोड टू नया पाकिस्तान’ में किस मोड़ पर खड़ा होगा भारत

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनने की दौड़ में आगे चल रहे इमरान खान की पहली पहचान हमेशा उस क्रिकेट कप्तान के रूप में रहेगी जो मैदान पर नामुमकिन को मुमकिन बनाने का माद्दा रखता था और जिसने अपनी टीम को विश्व विजेता बनने का ख्वाब दिखाया और पूरा भी किया. अस्सी के दशक में कई अंतरराष्ट्रीय कप्तान रहे लेकिन क्रिकेट के मैदान पर एक ही अगुआ था और वह इमरान खान था.

इमरान खान: पहली शादी 9 साल, दूसरी सिर्फ 9 महीने चली, 65 साल में की तीसरी शादी

वह 1987 विश्व कप के बाद रिटायर हो चुके थे, लेकिन उन्हें फैसला बदलना पड़ा. उन्होंने 1992 विश्व कप में वापसी की और चोट के कारण बतौर बल्लेबाज अधिक खेले.पाकिस्तान को विश्व कप जिताकर क्रिकेट को अलविदा कहने वाले इमरान जैसी विदाई बिरलों को ही मिलती है .