संयुक्त राष्ट्र महासभा में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाने पर भारत ने शुक्रवार को पाकिस्तान पर एक बार फिर पलटवार किया और कहा कि इस्लामाबाद ने ‘एक बार फिर झूठ दोहराया, निजी हमले किए.’ संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि, राजदूत टी एस तिरुमूर्ति ने ट्वीट किया, ‘पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का बयान एक और कूटनीति गिरावट है. एक और झूठ का पुलिंदा, निजी हमले और पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों पर अत्याचारों और सीमा-पार आतंकवाद को छिपाने का प्रयास है.’Also Read - इस साल हो सकती है चाबहार बंदरगाह पर चार देशों की बैठक: विदेश मंत्रालय

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने अपने पहले से रिकॉर्ड किये वीडियो संबोधन में जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) समेत भारत के आतंरिक मामलों का जिक्र किया था. जब खान के संबोधन में भारत का जिक्र आया तब संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के प्रथम सचिव मिजितो विनितो महासभा हॉल से बाहर चले गए थे. Also Read - अगले लोकसभा चुनाव को लेकर बोले रामदास अठावले, '2024 में खेला नहीं सत्ता के लिए मोदी का मेला होगा'

Also Read - नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के ‘महायज्ञ’ के बड़े तत्वों में से एक: पीएम मोदी

इमरान खान के कश्मीर पर झूठ को खारिज करते हुए भारत ने स्पष्ट कर दिया कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है. दरअसल, संयुक्त राष्ट्र में शनिवार को राइट टू रिप्लाई में इंडिया मिशन के फर्स्ट सेक्रेट्री मिजितो विनितो (Mijito Vinito) ने कहा कि कश्मीर पर अब सिर्फ पीओके (PoK) की ही चर्चा बची है और पाकिस्तान इस अवैध कब्जे को खाली करे.

पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए मिजितो विनितो ने कहा, ‘पाकिस्तान के नेता ने आज कहा कि ऐसे लोग जो नफरत और हिंसा फैलाने का काम करते हैं, उन्हें गैर-कानूनी घोषित कर देना चाहिए. मगर उन्होंने जब ऐसा कहा तो हमें काफी हैरानी हुई, क्या वह खुद का ही जिक्र कर रहे थे?’

मिजितो ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर जमकर निशाना साधा. इमरान खान पर हमला बोलते हुए मिजितो ने कहा कि यूएन के मंच पर एक ऐसे नेता ने आज जहर उगला है, जिसने खुद स्वीकार किया था कि उसके देश में आतंकवादी प्रशिक्षित होते हैं.

(इनपुट: भाषा)