कराची: इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी (पीटीआई) ने संघीय सरकार के गठन के लिए एमक्यूएम-पी का समर्थन मांगा है. ‘डॉन’ के मुताबिक पार्टी के नेता जहांगीर तरीन सोमवार शाम इस्लामाबाद से कराची आए और पूर्व प्रतिद्वंद्वी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान को पीटीआई के नेतृत्व वाली सरकार में शामिल होने का आमंत्रण दिया.

पीएम बनने के करीब पहुंचे इमरान खान, छोटी पार्टियों और निर्दलीयों के साथ मिलकर बनाएंगे सरकार

एमक्यूएम-पी को 2013 में नेशनल एसेंबली की 24 सीटें मिली थी जबकि इस बार छह सीटें मिली हैं. पार्टी ने कराची में चार सीट और हैदराबाद में दो सीटों पर जीत हासिल की है.

इमरान खान को नहीं मिला बहुमत, निर्दलियों पर खेल सकते हैं दांव, ये है समीकरण

पीटीआई 116 सीटों के साथ अपनी बदौलत सरकार नहीं बना सकती और संसद के निचले सदन में सामान्य बहुमत नहीं होने के कारण राष्ट्रीय राजनीति में एमक्यूएम-पी महत्वपूर्ण भूमिका में आ गयी है. पीटीआई के नेता आरिफ अल्वी, फिरदौस शमीम नकवी और इमरान इस्माइल के साथ तरीन बहादुराबाद इलाके में एमक्यूएम-पी के अस्थायी मुख्यालय पहुंचे और पार्टी के संयोजक खालिद मकबूल सिद्धिकी से मुलाकात की.

इमरान खान ने भारत से की बातचीत की पहल, कहा- फौज नहीं सुलझा सकती कश्मीर मसला

दोनों दलों के बीच कमरे में वार्ता हुई. एमक्यूएम के सूत्र ने बताया कि तरीन ने नेशनल एसेंबली में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सदन के नेता के चुनाव में एमक्यूएम-पी का समर्थन मांगा. पाकिस्तान के 70 साल के इतिहास में यह दूसरा मौका है जब लोकतांत्रिक तरीके से सत्ता हस्तांतरण हो रहा है. साल 1947 में आजादी के बाद से लेकर अब तक देश की करीब आधी सदी तक पाकिस्तान में सेना का शासन रहा है.