इस्लामाबाद: पाकिस्तान में महंगाई तो पहले ही अपना रिकार्ड तोड़ चुकी है, अब स्थिति यह हो गई है कि लोगों में इसका आतंक व्याप्त हो चुका है. दूध-दही या मटन अपनी जगह, अब तो रोजाना इस्तेमाल में आने वाली आम सब्जियां भी किसी नेमत से कम नहीं रह गई हैं. स्थिति यह है कि रोजमर्रा इस्तेमाल में आने वाली 51 वस्तुओं में से 43 के दाम में बीते साल की समान अवधि की तुलना में बीते हफ्ते 289 फीसदी तक का इजाफा हुआ है. स्थिति की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान में टमाटर तो 200 से 300 (पाकिस्तानी) रुपये किलो तक बिक ही रहा था, अब इस सीजन की सामान्य सब्जी गोभी भी यहां डेढ़ सौ रुपये किलो तक बिक रही है. अदरक का हाल यह है कि अगर इसे कोई एक किलो खरीदना चाहे तो उसे जेब से पूरे 500 रुपये निकालने होंगे. प्याज 200 रुपये किलो मिल रहा है जबकि एक किलो चीनी अभी 90 रुपये में मिल रही है.

अखबार ‘जंग’ की रिपोर्ट में बताया गया है कि पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार यह दिन आया है जब कराची में टमाटर तीन सौ रुपये किलो तक पहुंच गया है. टमाटर की थोक कीमत ही 200 रुपये किलो से अधिक है. रिपोर्ट में बताया गया है कि टमाटर की इस कीमत की वजह देश में इसके पैदावार में कमी और पड़ोसी ईरान व अफगानिस्तान से इसकी कम आवक है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि महंगाई के दानव ने किस तरह से अपने गिरफ्त में लोगों को जकड़ रखा है, इसे इस बात से समझा जा सकता है कि बीते एक साल की समान अवधि की तुलना में बीते हफ्ते रोजमर्रा इस्तेमाल में आने वाली 51 वस्तुओं में से 43 के दाम में 289 फीसदी तक का इजाफा हुआ है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि फलों के दाम में भी ऐसी ही आग लगी हुई है. बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा में इस वक्त एक किलो पपीता 160 रुपये में मिल रहा है. एक दर्जन केले के लिए 120 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं. सेब, नाशपाती, अनार.किसी भी फल का ऐसा ही हाल है. समस्या सिर्फ शाकाहार की ही नहीं है. मांसाहारी भी महंगाई से इतने ही त्रस्त हैं. बकरे का एक किलो मांस 900 रुपये किलो में मिल रहा है.

पूरे देश में महंगाई के कारण मचे हाहाकार ने सरकार की नींद उड़ाई हुई है. ‘डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री इमरान खान ने महंगाई पर निगाह रखने के लिए एक विशेष इकाई बनाई है. इमरान के आर्थिक मामलों के सलाहकार अब्दुल हफीज शेख व वित्त मंत्री हम्माद अजहर ने एक प्रेस कांफ्रेंस में यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि सरकार महंगाई पर काबू पाने के लिए लगातार कदम उठा रही है.

लेकिन, इसी प्रेस कांफ्रेंस में जब संवाददाताओं ने कहा कि टमाटर तो 300 रुपये किलो तक पहुंच गया है तो अब्दुल हफीज शेख ने कहा, “आप यह कीमत कहां से बता रहे हैं. कराची में तो टमाटर 17 रुपये किलो बिक रहा है.”

(इनपुट आईएएनएस)