India China Standoff: भारत और चीन के बीच लद्दाख को लेकर पिछले कई महीने से टेंशन है लेकिन 15 तारीख की रात को गलवान घाटी (Galwan Valley) पर भारत और चीन के बीच हुई झड़प के बाद से दोनों ही देशों के रिश्तों में काफी खटास आ गई और दोनों ही देशों की सीमाओं पर तनाव उत्पन्न हो गया है. भारत चीन के बीच हुई इस झड़प (India China Ladakh Fight) के बाद से अमेरिका इस पूरे मामले पर लगातार नजर बनाए हुए है. अब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा कि दोनों ही देशों के बीच इस समय काफी गंभीर हालात बने हुए हैं और मामले को सुलझाने के लिए अमेरिका चीन और भारत से बात कर रहा है.Also Read - CoronaVirus New Variant NeoCoV: क्या डेल्टा-ओमिक्रॉन से ज्यादा खतरनाक है नया वेरिएंट नियोकोव? जानिए सच्चाई

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हम चाहते हैं कि दोनों की मदद करें और बात से मामला सुलझ जाए. उन्होंने कहा कि दोनों ही देशों की स्थितियां इस समय खराब है लेकिन हम इस पर नजर बनाएं हुए हैं और उत्पन्न हुए इस संकट को सुलझाने का प्रयास भी करेंगे. Also Read - Kevin Pietersen को मिला PM Modi का लेटर, गदगद होकर भारत को बताया 'वैश्विक शक्ति'

Also Read - S-400 की खरीदी अमेरिका की 'आपत्‍त‍ि' को लेकर भारत का जवाब- हम एक स्वतंत्र विदेश नीति अपनाते हैं

इससे पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइप पोम्पियों ने भी भारत और चीन के मुद्दे पर बयान दिया था. उन्होंने कहा कि चीन की सेना भारतीय सीमा को भड़का रही है. बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने इससे पहले भी दोनों देशों के बीच मध्यस्थता की बात कही थी लेकिन दोनों ही देशों की तरफ से उनकी इस बात को ठुकरा दिया गया था.

बता दें कि अमेरिका कोरोना वायरस का मुख्यरूप से चाइना को जिम्मेदार मानता है और वह कई बार कोरोना वायरस को चाइनीज वायरस भी कह चुका है. कोरोना को लेकर अमेरिका और चीन के बीच पहले ही तनाव है और ऐसे में अब वह लगातार पिछले कई दिनों से भारत के पक्ष में अपना बयान दे रहा है.