कोलंबो: भारत ने ‘जिहादी आतंकवाद’ के साझा खतरे से निपटने में श्रीलंका को अपने पूरे समर्थन की पेशकश की है. भारत ने ‘ईस्टर संडे’ के दिन श्रीलंका में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में 11 भारतीयों सहित करीब 260 लोगों के मारे जाने के कुछ दिनों बाद इस पड़ोसी देश से यह पेशकश की है.

श्रीलंका में फिर से हो सकता है आतंकी हमला, राष्ट्रपति ने कहा- खतरा अभी खत्म नहीं हुआ

यहां भारतीय उच्चायोग ने एक बयान में कहा कि श्रीलंका में भारतीय उच्चायुक्त तरणजीत सिंह संधु ने कैंडी के श्री डलाडा मालीगावा या ‘सेक्रेड टूथ रेलिक’ मंदिर में दो शीर्ष बौद्ध भिक्षुओं से अपनी हालिया मुलाकात के दौरान मौजूदा सुरक्षा स्थिति पर भी चर्चा की. बयान में कहा गया है कि उच्चायुक्त ने महानायके थेरोस के साथ मौजूदा सुरक्षा स्थिति की चर्चा की और जिहादी आतंकवाद के साझा खतरे से निपटने में श्रीलंका को भारत के पूर्ण समर्थन की पेशकश की. बयान में कहा गया कि महानायके थेरोस ने श्रीलंका के प्रति भारत के बेशर्त और मजबूत समर्थन की तारीफ की.

श्रीलंका में हुए विस्फोटों में मरने वालों की संख्या हुई 359, इतने विदेशी नागरिक भी शामिल

इस्लामिक स्टेट समूह ने ली थी हमले की जिम्मेदारी
बता दें कि इस्टर के मौके पर हुए आतंकी विस्फोट में सैकड़ों लोग मारे गए थे. इस हमले की इस्लामिक स्टेट समूह ने जिम्मेदारी ली थी और उन तस्वीरों को जारी किया था, जिन्हें तथाकथित हमलावरों को दिखाने के लिए बनाया गया था.