संयुक्त राष्ट्र: भारत ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) एजेंसी को 50 लाख डॉलर देने का संकल्प लिया है. फिलिस्तीनी शरणार्थियों की मदद करने वाली संस्था यूएन एजेंसी को अमेरिका द्वारा उसके योगदान में कटौती किए जाने के बाद अपने अभियान के लिए वित्त की भारी कमी से जूझना पड़ रहा है. Also Read - आखिर किसे माफ़ी देकर खुश हुए डोनाल्ड ट्रंप, बोले- 'मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं, बधाई'

यूएन ने कहा, “फिलीस्तीनी शरणार्थियों (यूएनआरडब्लूए) के लिए संयुक्त राष्ट्र राहत और कार्य एजेंसी के रूप में प्रसिद्ध संगठन में योगदान की पेशकश सोमवार को एक संकल्प सम्मेलन में की गई.” यूएन के मुताबिक, एजेंसी 25 करोड़ डॉलर की भारी कमी का सामना कर रही है. Also Read - Aus vs Ind, 1st ODI: नंगे पैर मैदान पर घेरा बनाकर नस्लवाद के खिलाफ विरोध दर्ज कराएगी ऑस्ट्रेलियाई टीम

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जनवरी में घोषणा की थी कि अमेरिका यूएनआरडब्लूए में अपने योगदान में कटौती करेगा. एजेंसी ने कहा कि उसके बजट में वास्तव में 30 करोड़ डॉलर की कमी है और उसे वाशिंगटन से 36.5 करोड़ डॉलर प्राप्त होने की संभावना थी, लेकिन उसे केवल 6.5 करोड़ डॉलर ही हासिल हुए. Also Read - मुंबई हमले को भूल नहीं सकता भारत, अब नई नीति के साथ देश आतंकवाद से लड़ रहा है: PM मोदी

भारत ने मार्च माह में रोम में हुए एक सम्मेलन में घोषणा करते हुए कहा था कि वह अगले तीन वर्षो में वर्तमान प्रतिवर्ष 12.5 लाख डॉलर से अपनी वार्षिक योगदान राशि को बढ़ाकर 50 लाख डॉलर तक कर देगा. भारत के अलावा, 19 देशों ने सोमवार को यूएनआरडब्लूए के लिए संकल्प लिया. एजेंसी मध्य-पूर्व के चारों ओर बिखरे हुए लगभग 53 लाख शरणार्थियों की सेवा करती है.