वॉशिंगटन: भारतीय-अमेरिकी समुदाय के प्रतिष्ठित सदस्यों ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत के पद से इस्तीफा देने वाली निक्की हेली भारत-अमेरिका संबंधों की बड़ी समर्थक रही हैं और दोनों देशों के साथ सक्रिय रही हैं. उनका मानना है कि हेली की राष्ट्रव्यापी लोकप्रियता के चलते वह जल्द ही और अहम भूमिका में नजर आएंगी. Also Read - Joe Biden Administration: जो बाइडेन प्रशासन में कई भारतीय-अमेरिकी बन सकते हैं मंत्री

Also Read - भारतीय मूल के दो प्रख्यात अमेरिकी जो बाइडेन के मुख्य सलाहकारों में शामिल

अमेरिका में किसी भी राष्ट्रपति के कैबिनेट में पहली भारतवंशी हेली ने मंगलवार को अपने इस्तीफे की घोषणा करके सभी को हैरत में डाल दिया. Also Read - US Election: भारतवंशी निक्की हेली का दावा, अमेरिका ने तोड़ी पाकिस्तान की कमर, बंद की अरबों की फंडिंग

भारतीय मूल की निक्की हेली ने यूएन में अमेरिकी राजदूत के पद से इस्तीफा दिया, ट्रंप ने किया मंजूर

अमेरिका भारत कूटनीतिक और साझेदार फोरम (यूएसआईएसपीएफ) के मुकेश आघी ने कहा, ”निक्की हेली सबसे सफल भारतीय-अमेरिकी नेता रही हैं. उन्होंने निरंतर अमेरिका-भारत की मजबूत साझेदारी का समर्थन किया है.”

उन्होंने कहा, ”हम निश्चित तौर पर मौजूदा प्रशासन में उनकी मौजूदगी को याद करेंगे, जहां वह अमेरिका-भारत गठबंधन की सच्ची चैम्पियन के तौर पर देखी गईं. हमारा यह भी मानना है कि वह जल्द ही मजबूत पद पर दिखाई देंगी, क्योंकि उनका भविष्य बहुत उज्जवल है.”

तो क्या संयुक्त राष्ट्र में राजदूत निक्की हेली की जगह लेंगी डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप?

सिलिकॉन वैली के शीर्ष भारतीय-अमेरिकी पूंजीवादी और परोपकारी एम आर रंगास्वामी ने कहा कि हेली समुदाय के साथ सक्रिय तौर पर शामिल रहीं. उन्होंने कहा, ”हम उन्हें भविष्य की शुभकामनाएं देते हैं.”

भारतीय-अमेरिकी परोपकारी, सामुदायिक नेताओं और राजनीतिक कार्यकर्ताओं के समूह इंडियन-अमेरिकन इम्पैक्ट प्रोजेक्ट ने कहा, ” हमें उनकी सेवा और नेतृत्व पर गर्व है तथा हम आभार जताते हैं कि उन्होंने असंख्य भारतीय अमेरिकी लोगों को लोक सेवा और विदेश सेवा में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया.”