वडोदरा: पाकिस्तान की एक जेल में बंद गुजरात के एक मछुआरे के परिवार को सोमवार को पता चला कि गत चार मार्च को ही उनकी मौत हो गयी थी. मछुआरे के परिवार को यह जानकारी तब हुई जब एक साथी कैदी का पत्र मछुआरे की पत्नी के पास पहुंचा.  गुजरात के गिर सोमनाथ जिले के कोटदा गांव निवासी देवा राम बरैया (55) को पाकिस्तानी समुद्री गश्ती एजेंसियों ने गत दो फरवरी को गहरे समुद्र से पकड़ा था. यह जानकारी उसके परिवार के सदस्यों ने दी.

कोटदा गांव के सरपंच बाबूभाई सोमाभाई ने बताया कि बरैया के साथ जेल में बंद प्रवीण धनसुख चावडा ने पत्र बरैया की पत्नी लाभूबेन को गत 22 अप्रैल को लिखा था. उक्त पत्र में बरैया के निधन की सूचना दी गई है. उन्होंने बताया कि लाभूबेन को उक्त पत्र सोमवार को मिला.