सिंगापुर: एक मिनी मार्ट में काम करने वाले भारतीय मूल के 31 वर्षीय एक व्यक्ति को नाबालिग बच्ची के साथ यौन संबंध बनाने और बलात्कार की कोशिश के जुर्म में 13 साल की कैद और 12 कोड़ों की सजा सुनाई गई है. भारतीय मूल के इस शख्श ने बच्ची को फुसलाने के लिए मिनी मार्ट से मुफ्त में गिफ्ट दिलाए और उसका मुंह बंद रखने के लिए उसे 50 सिंगापूर डॉलर भी दिए थे. अभियुक्त की प्रेमिका ने जब उसके मोबाइल में बच्ची की निर्वस्त्र तस्वीरें देखीं तो यह मामला सामने आया.

12 साल की बच्ची को पत्नी बुलाता था
साल 2016 में अभियुक्त की प्रेमिका ने ही इसकी शिकायत दर्ज कराई थी. स्थानीय समाचार पत्र ‘द न्यू पेपर’ की खबर के अनुसार मिनी मार्ट में काम करने वाला उदयकुमार दक्षिणमूर्ति 12 वर्षीय बच्ची को तोहफे दिया करता था और उसे अपनी ‘‘पत्नी’’ बुलाता था. इसके अलावा उसने बच्ची को इस प्रकार से तैयार किया कि वह अपनी मर्जी से यौन कृत्यों में आरोपी का साथ दे. ऐसा करते हुए उसने तीन महीने तक बच्ची के साथ यौन संबंध बनाए. कोर्ट ने गुरुवार को सजा सुनाते हुए उसके खिलाफ चार अन्य आरोपों पर भी विचार किया.

18 साल की सऊदी महिला को कनाडा देगा शरण, प्रताड़ना से छोड़ी थी घर

न्यायिक आयुक्त पांग खांग चाऊ ने सजा सुनाते हुए कहा कि उदयकुमार ने नाबालिग की मासूमियत और भोलेपन का फायदा उठाया और नैतिक रूप से उसे भ्रष्ट किया. रिपोर्ट के मुताबिक अभियुक्त दक्षिणमूर्ति बच्ची को फ्लैटों के ब्लॉक की एक सीढ़ी पर ले गया और उससे यौन संबंध बनाने के लिए पूछा, इस पर बच्ची ने कहा कि उसे नहीं पता कि यौन संबंध क्या होते हैं,इस पर आरोपी ने कहा कि वह उसे सब सिखा देगा.

प्रेमिका की शिकायत पर दर्ज हुआ केस
‘द न्यू पेपर’ के अनुसार दक्षिणमूर्ति का कहना है कि उसने बच्ची के साथ दो बार यौन संबंध बनाने की कोशिश की लेकिन वह नाकाम रहा. दूसरी बार भी नाकाम रहने के बाद उसने बच्ची को 50 सिंगापुर डॉलर दिए और उनका रिश्ता एक तरफा तौर पर खत्म कर लिया. उसने बच्ची को आगे मिनी मार्ट से मुफ्त में चीजें देने से भी मना कर दिया. घटना सितम्बर और दिसम्बर 2016 के बीच की है. दरअसल दक्षिणमूर्ति की गर्भवती प्रेमिका को नाबालिग का निर्वस्त्र वीडियो उसके फोन में मिला था जिसके बाद मामला सामने आया. इसके कुछ दिन बाद ही प्रेमिका ने दक्षिणमूर्ति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. (इनपुट एजेंसी)

क्रिसमस की रात मारे गए भारतीय मूल के पुलिस ऑफिसर के परिवार ने सीमा सुरक्षा मामले पर ट्रंप का किया समर्थन