इस्लामाबाद: फेसबुक पर एक-दूसरे से जुड़े. बातचीत का सिलसिला ऐसा चला कि भारतीय युवक ने पाकिस्तानी युवती के लिए सीमाएं तोड़ दीं. दोस्ती निभाने के लिए युवक युवती से मिलने की चाहत में अफगानिस्तान के रास्ते से अवैध तरीके से पाकिस्तान पहुंच गया. युवक ने पाकिस्तान का फर्जी पहचान पत्र बनवाया. युवक की चाहत
तो पूरी नहीं हुई, लेकिन उसे पकड़ जरूर लिया गया. तीन साल तक पाक जेल में सजा काटने के बाद युवक को अब रिहा कर दिया गया है. युवक स्वदेश लौट आया है.

2012 में पाकिस्तान पहुंचा था युवक
मामला 2012 का है. हामिद निहाल अंसारी मुंबई का रहने वाला है. बताते हैं कि हामिद की फेसबुक पर एक पाकिस्तानी लड़की से दोस्ती हो गई. युवक युवती से मिलने के लिए इतना बेकरार हुआ कि वह अफगानिस्तान होते हुए अवैध रूप से पाकिस्तान पहुंच गया, लेकिन उसे पकड़ लिया गया. इसके बाद पाक की खुफिया एजेंसी ने अंसारी को 2015 में एक सैन्य अदालत ने उसे फर्जी पाकिस्तानी पहचान पत्र रखने के मामले में तीन साल की सजा सुनाई थी. 15 दिसंबर 2015 को सजा सुनाए जाने के बाद से 33 वर्षीय मुंबई निवासी अंसारी पेशावर केंद्रीय कारागार में बंद था. उसकी तीन साल की सजा 15 दिसंबर, 2018 को पूरी हो गई थी, लेकिन कानूनी दस्तावेज तैयार नहीं होने की वजह से वह भारत रवाना नहीं हो पा रहा था.

लड़की से मिलने गया था पाकिस्तान, सेना ने कर दिया था गायब, अब 6 साल बाद लौटेगा स्वदेश

भारतीय जासूस होने का किया दावा
बृहस्पतिवार को पेशावर उच्च न्यायालय ने संघीय सरकार को एक महीने के भीतर उसको स्वदेश भेजने की प्रक्रिया पूरी करने के लिए कहा था. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा ‘अंसारी को उसकी सजा पूरी होने के बाद रिहा किया गया और भारत भेजा रहा है.’ उन्होंने दावा किया कि अंसारी एक ‘भारतीय जासूस था जिसने अवैध तरीके से पाकिस्तान में प्रवेश किया था और वह राष्ट्र विरोधी अपराधों एवं फर्जी दस्तावेज बनाने में शामिल था.’

अदालत ने दिए तुरंत वापस भेजने के निर्देश
पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों एवं कोहाट की स्थानीय पुलिस द्वारा 2012 में हिरासत में लिए जाने के बाद से अंसारी लापता हो गया था और आखिरकार उसकी मां फौजिया अंसारी द्वारा दाखिल बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका के जवाब में उच्च न्यायालय को सूचित किया गया कि वह पाकिस्तानी सेना की हिरासत में हैं और एक सैन्य अदालत में उस पर मुकदमा चलाया जा रहा है. अदालत के आदेश पर जब तीन साल की सजा पूरी हो गई, इसके बाद भी हामिद को नहीं छोड़ा जा रहा था. इस पर अदालत ने हामिद को तुरंत छोड़े जाने का निर्देश दिए थे. इसके बाद आज हामिद को रिहा कर दिया गया. युवती से मिलने के चक्कर में पाकिस्तान पहुंचे हामिद की करीब 6 साल बाद स्वदेश वापसी हुई है.